चर्चित किसान नेता मनवीर सिंह तेवतिया ने शिवपाल यादव की पार्टी का थामा दामन, बोले- धैर्य की परीक्षा न ले सरकार

चर्चित किसान नेता मनवीर सिंह तेवतिया ने शिवपाल यादव की पार्टी का थामा दामन

इस अवसर पर शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) ने कहा कि किसान संकट का हल सही मायनों में हल चलाने वाला ही निकाल सकता है.

  • Share this:
    लखनऊ. चर्चित किसान नेता किसान नेता मनवीर सिंह तेवतिया (Manveer Singh Tewatia) ने शनिवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) के विचारों में आस्था जताते हुए प्रसपा का दामन थाम लिया है. 2010 में अलीगढ के टप्पल में हुए किसान आंदोलन के दौरान चर्चा में आए और ग्रेटर नोएडा के भट्टा ग्राम में भूमि अधिग्रहण के ख़िलाफ़ किसानों के पक्ष में संघर्ष का बिगुल फूंकने वाले मनवीर सिंह तेवतिया को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रसपा का ध्वज देकर प्रसपा की सदस्यता दिलाई.

    इस अवसर पर शिवपाल यादव ने कहा कि किसान संकट का हल सही मायनों में हल चलाने वाला ही निकाल सकता है. शिवपाल ने कहा कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) ने छोटूराम, चौधरी चरण सिंह व महेंद्र सिंह टिकैत के बताए रास्तों पर चलने का संकल्प लिया है. किसान नेता मनवीर सिंह तेवतिया ने कहा कि सरकार स्वाभिमानी अन्नदाताओं के धैर्य की परीक्षा न ले. वहीं फ़िल्म निर्माता अजय सिंह सैंथवार ने कहा कि वह जल्द ही शिवपाल सिंह के व्यक्तित्व पर फ़िल्म बनाएंगे. इस मौके पर अन्नदाताओं के लिए शिवपाल यादव ने कृषि सुधार (रिफार्म) योजना से संबंधित सात सूत्र जारी किए.

    आगरा पुलिस की बड़ी कार्रवाई, तोड़फोड़-आगजनी करने वाले उपद्रवियों पर लगेगा NSA

    1- किसानों मजदूरों के लिए बिजली, पानी, डीजल, पेट्रोल, खाद, बीज, सड़कों व कृषि यंत्रों व कृषि भूमि खरीद फरोख्त को टैक्स फ्री किया जाए.

    2 -सरकार द्वारा जिन फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाता है. उन फसलों को सभी कार्य दिवसों में सरकारी खरीद सुनिश्चित करने का प्रावधान किया जाए.

    3- श्रम कानूनों में संशोधन कर किसानों के श्रम (मेहनत/मजदूरी) को संवैधानिक अधिकार दिया जाना सुनिश्चित किया जाए, अर्थात मनरेगा के बराबर पूरे साल यानि 365 दिन की मजदूरी जोड़कर न्यूनतम समर्थन मूल्य की गणना की जाए.

    4- किसान, मजदूरों की संपत्ति का आकलन सर्विल रेट से करके उनकी आवश्यकतानुसार ऋण दिया जाए जिसका किस्तों में भी भुगतान करने का प्रावधान किया जाए.

    5- किसान का बकाया भुगतान किसी भी संस्था पर हो, उसे उसकी बकाया धनराशि पर दण्ड ब्याज दिया जाये.