पिता का आरोप- नाबालिग बेटी का अपहरण कर हुआ रेप, पुलिस कह रही- झूठ बोल रहा, जानिए पूरा मामला

लखीमपुर खीरी में एक पिता अपनी बेटी के साथ हुए अत्याचार की रिपोर्ट दर्ज नहीं करवा पा रहा है.

लखीमपुर खीरी में एक पिता अपनी बेटी के साथ हुए अत्याचार की रिपोर्ट दर्ज नहीं करवा पा रहा है.

Lakhimpur Kheri News: बेटी के साथ अपहरण और रेप की घटना में न्याय पाने को परेशान पीड़ित पिता डीएम से लेकर एसपी के कार्यालय में शिकायत कर चुका है फिर भी न्याय नहीं मिला है. परिजनों का कहना है कि धौरहरा सीओ व प्रभारी निरीक्षक तो इस घटना को झूठा करार दे देते हैं.

  • Share this:

मनोज शर्मा

लखीमपुर खीरी. एक तरफ पूरा देश कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से जूझ रहा है, कई प्रदेशों में लॉकडाउन लागू है और लोग घरों में दुबके हैं. वहीं ऐसे माहौल में लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) जिले में एक पिता रेप पीड़ित (Rape Victim) अपनी नाबालिग बेटी को लेकर पुलिस की चौखट पर न्याय के लिए गुहार लगा रहा है. उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है. पीड़ित पिता की फरियाद पर मुकदमा तक पंजीकृत नहीं किया जा रहा है. न ही लड़की का मेडिकल ही कराया जा रहा है. उलटा पुलिस का कहना है कि ये आरोप ही झूठा है. उधर पुलिस कार्रवाई न होने से दबंगों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि वे पीड़ित पिता और पुत्री को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं.

दरअसल पूरा मामला लखीमपुर खीरी की धौरहरा कोतवाली क्षेत्र के विकास खंड रमियाबेहड़ के एक गांव का है. पीड़ित पिता ने बताया कि 29 अप्रैल की रात उनकी पुत्री अपनी बुआ के घर सो रही थी. रात करीब 12 बजे गांव के ही दबंग पिंटू पुत्र गुड्डू पाल व दो अन्य अज्ञात उसकी पुत्री को जबरन घर से अपरहण कर अपने घर उठा ले गए थे. पीड़ित लड़की के पिता का आरोप है आरोपी पिंटू ने उनकी पुत्री को अपने कमरे में बंद कर उसके साथ बुरा काम किया. रात को जब उसकी बहन से लड़की को जबरन पिंटू और उसके साथियों द्वारा बेटी को उठा ले जाने की सूचना मिली तो वह अपने भाई के साथ पुत्री ढूंढने निकल पड़े थे.

पुलिस ने ही बेटी को किया था बरामद
खोजबीन में पता चला था कि उनकी पुत्री आरोपी पिंटू के घर पर है, जिस पर वह अपनी पुत्री को लेने पिंटू के घर पहुंचे तो वहां विपक्षी लोगों ने लाठी-डंडों से उन पर प्रहार कर दिया था, जिसमें उनके गंभीर चोटें आई थीं. मारपीट की सूचना पर पीआरबी 2903 डायल 112 पुलिस द्वारा आरोपी पिंटू के घर से बालिका को बरामद कर माता-पिता के सुपुर्द किया गया था. जिसके बाद पुत्री द्वारा परिजनों को आपबीती सुनाई जाने के बाद पीड़ित पिता ने 30 अप्रैल को ही धौरहरा कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए तहरीर दी. लेकिन दस दिन गुजर जाने के बाद भी अभी तक धौरहरा कोतवाली पुलिस द्वारा इस संबंध में कोई मुकदमा पंजीकृत नहीं किया गया है.

डीएम, एसपी कार्यालय से भी न्याय नहीं मिला

न्याय पाने को परेशान पीड़ित पिता डीएम से लेकर एसपी के कार्यालय में जाकर पूरे मामले की शिकायत कर चुका है फिर भी उसे कोई न्याय मिलता दिखाई नहीं दे रहा है. परिजनों का कहना है कि जब धौरहरा सीओ व प्रभारी निरीक्षक से बात की जाती है तो वह इस घटना को झूठा करार दे देते हैं. उनका कहना है कि हमारी प्राथमिकी दर्ज की जाए और पुत्री का मेडिकल कराया जाए और मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाए.



इस मामले में पुलिस के आला अधिकारी से बात की गई तो पुलिस के आला अधिकारियों ने कैमरे के सामने बोलने से इंकार कर दिया और इस मामले में लड़की के साथ रेप ना किए जाने की बात कह रहे हैं. सवाल ये है कि पुलिस के पास ऐसा कौन सा पैमाना है? जो बिना डॉक्टरी के बता रहे हैं कि लड़की के साथ रेप नहीं हुआ जबकि पीड़िता पिता और पीड़िता लगातार अपनी प्राथमिकता शिकायत को दर्ज करा डॉक्टरी कराने की बात कह रहे हैं. पीड़िता का आरोप है कि कहीं ना कहीं आरोपी के रसूखदार होने के चलते पुलिस इस मामले को दबाने में लगी हुई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज