लाइव टीवी

इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत के मामले में अस्पताल निदेशक पर केस
Lucknow News in Hindi

भाषा
Updated: February 9, 2020, 2:24 PM IST
इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत के मामले में अस्पताल निदेशक पर केस
मामले में कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अमर कुमार तिवारी की शिकायत के आधार पर लखनऊ (Lucknow) के सीजेएम की अदालत के आदेशानुसार अलीगंज थाने में गत पांच फरवरी को विद्या हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर (Vidya Hospital and Trauma Center) तथा उसके निदेशक के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में कथित रूप से गलत ऑपरेशन (Wrong Operation) के कारण मरीज की मौत के मामले में अदालत के आदेश पर एक निजी अस्पताल और उसके निदेशक के खिलाफ मुकदमा (FIR) दर्ज किया गया है. अमर कुमार तिवारी की शिकायत के आधार पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत के आदेशानुसार अलीगंज थाने में गत पांच फरवरी को विद्या हॉस्पिटल एवं ट्रॉमा सेंटर तथा उसके निदेशक डॉक्टर के. के. गुप्ता के खिलाफ भारतीय दण्ड विधान की धारा 304—ए (लापरवाही के कारण मौत) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

ऑपरेशन के बाद कभी बिस्तर से नहीं उठ सके मरीज
शिकायतकर्ता तिवारी का कहना है कि उन्होंने अपने पिता शिव कैलाश तिवारी को गर्दन के निचले हिस्से में तकलीफ होने पर मड़ियांव स्थित विद्या हॉस्पिटल में डॉक्टर के. के. गुप्ता को दिखाया था और उन्होंने उनके पिता की रीढ़ में परेशानी होने की बात कहते हुए गर्दन के नीचे के हिस्से में छोटा सा ऑपरेशन करने की बात कही थी. उन्होंने कहा कि यह ऑपरेशन छह मई 2018 को हुआ था. उसके बाद से उनके पिता कभी बिस्तर से नहीं उठ सके.

दूसरे अस्पताल ने बताया- किया गया है गलत ऑपरेशन

तिवारी का आरोप है कि इस बारे में जब उन्होंने डॉक्टर गुप्ता से शिकायत की, तो उन्होंने बात करना बंद कर दिया. बाद में जब उन्होंने अपने पिता को दूसरे अस्पताल में दिखाया तो वहां बताया गया कि उनके पिता का अत्यधिक ब्लड शुगर रहते गलत ऑपरेशन किया गया है और अब उन्हें नहीं बचाया जा सकता. आखिरकार 15 मार्च 2019 को उनके पिता की मौत हो गई.

पीड़ित ने खटखटाया अदालत का दरवाजा
अमर कुमार तिवारी ने कहा कि इस बारे में पुलिस से कई बार शिकायत की गई मगर कोई सुनवाई नहीं हुई. अंतत: तिवारी ने अदालत का दरवाजा खटखटाया. मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने गत 27 जनवरी को पुलिस को इस सिलसिले में सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए. इस आधार पर अस्पताल और आरोपी डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया है.ये भी पढे़ं - 

मंदिर-मस्जिद के लाउडस्पीकर से किया जा रहा है योगी सरकार की योजनाओं का प्रचार

पत्नी ने बेटी को दिया जन्म तो पति ने फोन पर बोला- तलाक, तलाक, तलाक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 9, 2020, 2:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर