लाइव टीवी

Janata Curfew के दिन अपनाएं ये 13 टिप्स, नहीं होंगे बोर
Agra News in Hindi

Alauddin | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 21, 2020, 4:20 PM IST
Janata Curfew के दिन अपनाएं ये 13 टिप्स, नहीं होंगे बोर
लखनऊ के हजरतगंज में शनिवार 21 मार्च को ही सन्नाटा पसरा हुआ है.

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार जनता कर्फ्यू के दिन जब आप अपने संयम की परीक्षा खुद भी ले रहे होंगे तो कई टिप्स हैं, जिससे आपका दिन अच्छा गुजरेगा.

  • Share this:
लखनऊ. कोरोना (COVID-19) के बढ़ते संक्रमण और प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हर किसी से अपील की है कि 22 मार्च 2020 को सुबह 7 बजे से लेकर रात 9 बजे तक घरों के अंदर रहें. पीएम मोदी की इस अपील के पीछे मकसद यह है कि खतरनाक कोरोना वायरस की कमर को तोड़ा जा सके. पूरे देश के 130 करोड़ जनता को घरों में रहने की अपील की गई है. करोड़ों लोगों से उम्मीद लगाई जा रही है कि जब वह घरों के अंदर रहेंगे तो खतरनाक कोरोना वायरस का चेन बहुत हद तक टूट जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर अगर आप गौर करें तो साफ तौर से दिखाई देता है कि जनता कर्फ्यू (Janata Curfew) सिर्फ 22 मार्च के लिए नहीं है बल्कि जनता कर्फ्यू 21 मार्च से ही शुरू हो जा रहा है. 22 मार्च को दिन भर तमाम 130 करोड़ देशवासी एक तरफ घरों में रहेंगे तो दूसरी तरफ 21 और 22 की रात में भी लोग घरों से नहीं निकलेंगे तो ऐसे में कुल मिलाकर के जनता कर्फ्यू का समय करीब 36 घंटे का हो जाता है. अब सवाल यह भी उठ रहा है कि आखिर इतने लंबे समय तक लोग कैसे खुद को व्यस्त रखें? साथ में किस तरह की जीवनचर्या अपनाएं ताकि उनको मनोवैज्ञानिक रूप से कोई दिक्कत-परेशानी न हो.

जनता कर्फ्यू को लेकर क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक
इंसानों के मनोविज्ञान पर काम करने वाले लोग कहते हैं कि आमतौर से 36 घंटे तक लगातार घरों में रहना संयम भरी बात होगी. लेकिन मनोवैज्ञानिकों के अनुसार जब आप अपने संयम की परीक्षा खुद भी ले रहे होंगे और जब आप अकेले में या छोटे से समूह में रहकर खुद को उपेक्षित महसूस करें तो उनके लिए कई सारे टिप्स भी हैं. जिसके जरिए से खुद को उपेक्षित महसूस करने की बातें खत्म हो जाएंगी.



कैसी रखें दिनचर्या
रविवार 22 मार्च 2020 को आपके सोने का जो भी वक्त है जब आप सो कर उठे हैं तो सबसे पहले बिस्तर पर ही थोड़ा व्यायाम करने की कोशिश करें. व्यायाम के ठीक बाद अपने नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर के एक गिलास गर्म पानी जरूर पिएं और हो सके तो नीम गर्म पानी में हल्का नमक और नींबू का इस्तेमाल जरूर करें. इससे आपको दिनभर फुर्ती महसूस होगी. नित्य क्रियाओं से निवृत्त होने के बाद सुबह का नाश्ता करना बेहद जरूरी है जो हेल्दी नाश्ते की श्रेणी में आए. इसके बाद मनोवैज्ञानिक 13 तरीके भी बताते हैं जो कि नीचे दिए जा रहे हैं. उन पर अमल किया जाए तो "जनता कर्फ्यू" के दिन खतरनाक कोरोना वायरस की कमर एक तरफ हम तोड़ देंगे दूसरी तरफ आपका दिन कैसे बीता आपको पता भी नहीं चलेगा.

जनता कर्फ्यू के दिन अपनाएं ये 13 टिप्स
लखनऊ में स्थित राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के मनोवैज्ञानिक डॉक्टर देवाशीष शुक्ला कहते हैं..

1 - इस दिन लोग आलस में आकर लंबी नींद लेने की कोशिश करते हैं जो खतरनाक है. आप उतना ही सोए जितना ज़रूरी है. कुछ लोग छुट्टी का दिन मानकर नहाने से बचते हैं. नहाइये ज़रूर, इससे शरीर सुस्त नहीं रहेगा.
2- इस दिन को साइंटिफिक तरीके से जीने की कोशिश करें.
3- परिवार के साथ बैठकर इस दिन पर भविष्य की योजनाओं पर चर्चा भी कर सकते हैं.
4- परिवार की संवादहीनता को खत्म करने का ये शानदार दिन है.
5- इस दिन आप अपने पसंदीदा गेम को खेल सकते हैं. हो सके तो बच्चों और परिवार के साथ टीम बनाकर ही खेलें.
6- शाम को थाली और ताली बजाने की प्रैक्टिस भी की जा सकती है.
7- जो लोग संगीत के प्रेमी हैं, उनके लिए यह दिन शानदार हो सकता है. आप अपने पसंदीदा मधुर संगीत को इस दिन पर खूब आनंद ले सकते हैं. साथ ही गाना गाने के शौक़ीन भी इस दिन को एन्जॉय करें.
8- जिस किसी को खाना बनाने का शौक है इस दिन पर पूरा कर सकता है और अगर किसी को खाना बनाने का शौक नहीं है तो इस दिन पर वह खाना बनाना ट्राई भी कर सकता.
9- किताब पढ़ने के शौकीन लोग इस दिन को शानदार बना सकते हैं.
10- सोशल साइट पर एक्टिव रहने वाले लोग घर परिवार के साथ मिलकर टिक टॉक जैसा गेम भी खेल सकते हैं.
11- इस दिन पर अव्यवस्थित घर को व्यवस्थित भी किया जा सकता है. इसमें साफ सफाई से लेकर अपने पुराने रिकॉर्ड की गहराई से जांच की जा सकती है, जो कागजात ज़रूरत के नहीं हैं उनको इकट्ठा करके नष्ट करना और अपने रिकॉर्ड को तरो ताजा और नया किया जा सकता है.
12- मार्च की आखिरी तारीख चल रही है तो ऐसे में जो लोग आईटीआर फाइल करते हैं वो लोग साल भर का अपना हिसाब-किताब भी "जनता कर्फ्यू" के दिन बैठ कर ठीक कर देख सकते हैं.
13- हर किसी के लिए आखिरी सुझाव ये ज़रूर रहेगा कि जिस मकसद से जनता कर्फ्यू लगाया गया है, रात में खुद को ज़रूर तौले कि आपने कितना सहयोग किया है?

ये भी पढ़ें:

यूपी में Janata Curfew के दौरान नहीं चलेंगी रोडवेज बस, लखनऊ मेट्रो भी रहेगी बंद

COVID-19: जब कोई सोसाइटी होती है लॉक डाउन, तो जानिए क्या है इसका मतलब?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2020, 4:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर