Home /News /uttar-pradesh /

बाबरी विध्वंस मामले में बोलीं उमा भारती- जेल जाऊंगी, लेकिन जमानत नहीं लूंगी

बाबरी विध्वंस मामले में बोलीं उमा भारती- जेल जाऊंगी, लेकिन जमानत नहीं लूंगी

जेल जाऊंगी, लेकिन जमानत नहीं लूंगी (File photo)

जेल जाऊंगी, लेकिन जमानत नहीं लूंगी (File photo)

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले (Babri Demolition Case) में CBI कोर्ट के फैसले से पहले पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने अपने पत्र में कहा है कि मैं हमेशा कहती आयी हूं कि अयोध्या (Ayodhya) के लिए मुझे फांसी भी मंजूर है.

लखनऊ. आगामी 30 सितंबर को अयोध्या (Ayodhya) के बाबरी विध्वंस (Babri Demolition Case) मामले में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट (CBI Special Court) अपना फैसला सुनाने जा रही है. फैसले को लेकर बीजेपी की वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी भावनात्मक रूप से 26 सितंबर को लिखी गई है, जिसमें कहा गया है कि 30 सितंबर को सीबीआई की विशेष अदालत मे मुझे फैसला सुनने के लिए पेश होना है. मै कानून को वेद, अदालत को मंदिर और जज को भगवान मानती हूं. इसलिए अदालत का हर फैसला मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद होगा.

उन्होंने आगे लिखा, मैं नहीं जानती फैसला क्या होगा किंतु मैं अयोध्या पर जमानत नहीं लूंगी. जमानत लेने से आंदोलन मे भागीदारी की गरिमा कलंकित होगी. ऐसे हालातों में आप नई टीम में रख पाते हैं कि नहीं इसपर विचार कर लीजिए. यह मैं आपके विवेक पर छोड़ती हूं. पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने अपने पत्र में कहा है कि मैं हमेशा कहती आयी हूं कि अयोध्या के लिए मुझे फांसी भी मंजूर है.



फांसी हो या उम्रकैद, यह मेरा सौभाग्य- वेदांती
इससे पहले पूर्व सांसद और राम मंदिर आंदोलन के अगुआ रामविलास दास वेदांती ने भी बड़ा बयान दिया है. वेदांती ने कहा कि यदि कोर्ट इस मामले में उन्हें उम्रकैद या फांसी की सजा भी देती है तो उन्हें मंजूर होगा. उन्होंने कहा कि 30 सितंबर को लखनऊ के सीबीआई कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा गया है. कोर्ट पहुंचकर वह आत्मसमर्पण के लिए तैयार हैं. कोर्ट का जो भी फैसला होगा वह हमें मंजूर होगा.

वेदांती ने कहा कि हमें इसका गर्व है कि उस मंदिर के खंडहर को हमने तुड़वाया है, जिसकी जिम्मेदारी भी मैंने ली है और 30 सितंबर को आने वाले फैसले का स्वागत करेंगे. इस फैसले में यदि हमें उम्रकैद या फांसी की सजा भी होती है तो इससे बड़ा सौभाग्य नहीं होगा. 30 सितंबर को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश दिया गया है, इसलिए 30 सितंबर को 10 बजे कोर्ट में हाजिर रहूंगा.

Tags: Ayodhya Mandir, Babri Masjid Demolition Case, BJP, Bjp president jp nadda, Uma bharti

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर