बाबरी विध्वंस केस: कल्याण सिंह की CBI कोर्ट में आज होगी पेशी, हिरासत में लिए जाएंगे

बाबरी विध्वंस केस में पूर्व राज्यपाल और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह शुक्रवार को सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे.
बाबरी विध्वंस केस में पूर्व राज्यपाल और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह शुक्रवार को सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे.

बाबरी विध्वंस मामले (Babri demolition case) में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (Kalyan Singh) शुक्रवार को लखनऊ की सीबीआई कोर्ट (CBI Special Court) में पेश होंगे. इस दौरान उन्हें कोर्ट की हिरासत में लिया जाएगा हालांकि माना जा रहा है कि कल्याण सिंह इसी दौरान जमानत अर्जी भी दाखिल करेंगे.

  • Share this:
लखनऊ. बाबरी विध्वंस मामले (Babri Demolition Case) में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (Kalyan Singh) शुक्रवार को लखनऊ की सीबीआई कोर्ट (CBI Special Court) में पेश होंगे. इस दौरान उन्हें कोर्ट की हिरासत में लिया जाएगा. हालांकि माना जा रहा है कि कल्याण सिंह इस दौरान जमानत अर्जी भी दाखिल करेंगे. दरअसल सामान्य न्यायिक प्रक्रिया के तहत आरोपी जब कोर्ट में आता है तो उसे सरेंडर माना जाता है. इसके बाद वो जमानत मिलने तक कोर्ट की हिरासत में रहता है. दरअसल सीबीआई की विशेष अदालत (Special Court) ने कल्याण सिंह को कोर्ट में पेश होने के लिए आदेश जारी किया है. इस आदेश के मुताबिक, कल्याण सिंह को 27 सितंबर को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश होना है.



आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित अन्य को मिल चुकी है जमानत
दरअसल राजस्थान के राज्यपाल पद से हटने के बाद सीबीआई से कोर्ट ने दस्तावेजी प्रमाण की मांग की थी. हालांकि अब तक सीबीआई की तरफ से दस्तावेज पेश न करने के बावजूद कोर्ट ने यह आदेश किया है. इससे पहले कल्याण सिंह ने कहा था कि वो सीबीआई कोर्ट में पेश होकर अपना पक्ष रखने के लिए तैयार हैं. बता दें कि इस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास जमानत पर हैं.



राज्यपाल होने के कारण आरोपी के तौर पर नहीं हो सकते थे पेश

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 19 अप्रैल, 2017 को बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र के आरोप फिर से बहाल करने का आदेश दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही यह भी स्पष्ट किया था कि 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के समय उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को मुकदमे का सामना करने के लिए आरोपी के तौर पर बुलाया नहीं जा सकता क्योंकि संविधान के अनुच्छेद 361 के तहत राज्यपालों को संवैधानिक छूट मिली हुई है.

बता दें कि जिस समय सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी की थी, उस समय कल्याण सिंह राजस्थान के राज्यपाल के पद पर थे. संविधान के अनुच्छेद 361 के तहत राष्ट्रपति और राज्यपालों को उनके कार्यकाल के दौरान आपराधिक और दीवानी मामलों से छूट प्रदान की गई है. इसके अनुसार, कोई भी अदालत किसी भी मामले में राष्ट्रपति या राज्यपाल को समन जारी नहीं कर सकती.

ये भी पढ़ें:

बाबरी विध्वंस केस: कल्‍याण सिंह के खिलाफ CBI का समन, 27 सितंबर को पेशी

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 100 मीटर से ज्यादा बारात निकालने पर लगाई रोक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज