• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • यूपी सरकार के साढे चार साल: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा बेमिसाल, विपक्ष ने कहा, झूठ का पुलिंदा.

यूपी सरकार के साढे चार साल: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा बेमिसाल, विपक्ष ने कहा, झूठ का पुलिंदा.

UP: पहले ट्रांसफर और पोस्टिंग में लगती थी बोली

UP: पहले ट्रांसफर और पोस्टिंग में लगती थी बोली

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि कैसे यूपी की बीजेपी सरकार पहले की सभी सरकारो ने ना सिर्फ बेहतर काम कर रही है बल्कि उनके कार्यकाल मे प्रदेश की पहले वाली छवि पूरी तरह से बदल चुकी है।

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

उत्तर प्रदेश सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर जब यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अपने कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड पेश करना शुरू किया तो उनका मकसद साफ था। सरकार की उपलब्धियों के साथ उनके निशाने पर था विपक्ष. जिसके कार्यकाल से तुलना करके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि कैसे यूपी की बीजेपी सरकार पहले की सभी सरकारो ने ना सिर्फ बेहतर काम कर रही है बल्कि उनके कार्यकाल मे प्रदेश की पहले वाली छवि पूरी तरह से बदल चुकी है।

लखनऊ के लोकभावन (Lokbhawan) में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में योगी ने शुरूआत सरकार और संगठन के नेताओं को धन्यवाद देने  का साथ शुरू की। योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ की जनता को भी धन्यवाद दिया और कहा कि जनता की सेवा के लिये ये सरकार लगातार काम कर रही है.

विपक्षियों को बनाया निशाना, दंगे और भृष्टाचार रहा सबसे बडा मुद्दा.

योगी सरकार की प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ज्यादातर निशाने पर विपक्षी पार्टी की सरकारों के दौरान की कमियां रही जिसके बारे मे बात करते हुये योगी ने  कहा कि पहले की सरकार में माफिया को सत्ता का संरक्षण मिला हुआ था. साल 2012 से 2017 यानि कि समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सरकार तक ऐसा माहौल था कि हर रोज एक दंगा होता था, लेकिन हमारी सरकार के साढे चार साल मे एक भी दंगा नही हुआ। माफिया और अपराधियों के खिलाफ सख्ती के साथ कार्यवाई की गयी. करोडों की संपत्ति माफियाओं से ज़ब्त की गयी. योगी आदित्यनाथ ने पहले के मुख्यमंत्रियों पर हमला बोलते हुये कहा कि पहले जो लोग सीएम बनते थे तो अपनी हवेली बनाने के लिए जुट जाते थे, लेकिन हमारी सरकार जनता के लिए समर्पित थी इसलिये 42 लाख से ज़्यादा आवास जनता के लिए बनाये गये।.

पहले उत्तर प्रदेश मे कोई आपदा आती थी तो महीनों लग जाते थे लेकिन मुआवज़ा नही मिलता था. अब पीड़ित परिवारों को 24 घंटे के अंदर राहत का भुगतान मिल जाता है. प्रदेश में साढ़े 4 लाख लोगों को पारदर्शी व्यवस्था के साथ सरकारी नौकरी दी गयी है. किसी का चेहरा देखकर या जाति  पूछकर नौकरी नहीं दी गयी. योगी ने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद प्रदेश की इमेज सुधरी है जिसका नतीजा ये है कि प्रदेश मे हजारो करोड़ रूपयों का पूंजी निवेश हुआ है।

अयोध्या में दीपोत्सव और कांवड यात्रा पर विपक्ष की मंशा पर उठाये सवाल
विपक्ष पर निशाना साधते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा, कि यूपी ने अपनी सांस्कृतिक पहचान देश और दुनिया के सामने रखी. पहले की सरकारें अयोध्या मे किसी भी तरह के आयोजन से घबराती थी लेकिन इस सरकार ने अयोध्या की धार्मिक गरिमा को बढाने का काम  किया है, अयोध्या में दीपोत्सव का आयोजन, काशी का देव दीपावली का आयोजन हो या फिर मथुरा-बरसाना का रंगोत्सव। विपक्षी कभी ये आयोजन नहीं कर सकते थे, वे हमेशा इस बात के लिए सशंकित रहते थे कि अयोध्या में दीपोत्सव का कार्यक्रम करेंगे तो हम पर सांप्रदायिकता का लेबल लगेगा, लेकिन हमारी सरकार के लिए यह प्रदेश के परसेप्शन को दुनिया के सामने प्रस्तुत करने का बेहतरीन तरीका था। आज प्रदेश सरकार तेजी के साथ इस दिशा में आगे बढ़ रही है। इसी तरह जब हमारी सरकार आयी तो कांवड यात्रा पर प्रतिबंध था. लेकिन हमने साफ किया कि कांवड यात्रा ना सिर्फ पूरे सम्मान के साथ शुरू की जायेगी बल्कि उनका पूरा ख्याल भी रखा जायेगा। हमने पुलिस प्रशासन को निर्देश दिये कि कांवडियों को कोई भी समस्या नही होनी चाहिए और उन पर पुष्पवर्षा भी होनी चाहिए. पिछले चार सालों से कांवड यात्रा निकल रही है लेकिन कोई भी विवाद नही हुआ.
अयोध्या में भव्य राममंदिर का निर्माण शुरू कराया
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हमारी सरकार ने तेजी से राम मंदिर का कार्य शुरू कराया है. पहले लोग हमारी पार्टी के नारे ‘राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे’ पर मजाकिया लहजे में कहते थे कि ‘पर, तारीख नहीं बताएंगे।’ आज हमने तारीख भी बता दी है और अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण की शुरुआत भी हो चुकी है। बहुत जल्द मंदिर का काम तय समय से भी पहले पूरा होगा.

ट्रांसफर पोस्टिंग मे होता था पैसों का खेल, नौकरियों मे होती थी धांधली

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि प्रदेश मे साल 2017 के पहले ट्रांसफ़र-पोस्टिंग एक व्यवसाय था, बोली लगायी जाती थी, लेकिन पिछले साढ़े 4 साल में कोई ये आरोप नहीं लगा सकता कि पोस्टिंग के लिए किसी से कोई पैसा लिया गया है. अब सभी विभागो में तय नियमों के आधार पर ही अधिकारियों की पोस्टिंग की जाती है और नौकरियों के लिये भी आरक्षण नियमों का पूरी पारदर्शिता के साथ पालन करते हुये लोगो को नौकरियां दी गयी हैं। 

केंद्र सरकार की 44 योजनाओं में उत्तर प्रदेश सबसे आगे

योगी ने प्रधानमंत्री पीएम मोदी की बातों का हवाला देते हुये कहा यूपी पहले देश के विकास के लिए अवरोध के तौर पर जाना जाता था. योजनाओं में यूपी का स्थान 17 वें से 27वें स्थान के बीच था। आज भारत सरकार की 44 योजनाओं में यूपी पहले पायदान पर है। उनकी सरकार आने से पहले प्रदेश में भूख से लोगों की मौतें हो रही थीं। सरकार ने 40 लाख फर्जी राशन कार्ड निरस्त किए। 80 हजार दुकानों को ई-पॉज मशीनों से जोड़ा। कोरोना काल में 15 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया। आधुनिक तकनीक का प्रयोग कर सरकार 1200 करोड़ रुपये साल बचा भी रहे हैं। योगी ने कहा कि जब हम जब सरकार में आए तो भुखमरी की हालत थी क्योंकि गरीब लोगों के राशन कार्ड बने नहीं थे और जो बने थे निरस्त हो चुके थे. लेकिन हमने टेक्नोलॉजी का सहारा लिया और सबके राशन कार्ड बनवाए। राशन कोटे को ई-पॉज मशीन से जोड़ा गया. टेक्ननालॉजी का फ़ायदा मिला.यूपी में धान ख़रीद में पिछले साल क़ोरोना काल के बावजूद हमने 66 लाख मेट्री टन धान सीधे किसानों से ख़रीदा गया.
शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी राज्यों को करेंगे लीड
शिक्षा के क्षेत्र में हम 2022 में अग्रणी राज्यों को लीड करते हुए दिखेंगे। 7 नए विश्वविद्यालय और 50 महाविद्यालय बना रहे हैं। पुलिस फोरेंसिंक इंस्टीट्यूट की स्थापना स्थापना लखनऊ में हो रही है। मंडल स्तर फोरेंसिक लैब और साइबर थाने स्थापित किए जा रहे हैं। 30 हजार महिला आरक्षी भर्ती की गई हैं। 1.26 लाख से अधिक बेसिक शिक्षा में भर्तियां हुई हैं। महिला स्वयं सहायता समूहों की मदद से एक करोड़ बहनें स्वावलंबी बनी हैं। यह सब संगठन व सरकार के बेहतर समन्वय और केंद्रीय नेतृत्व से मिले सहयोग का नतीजा है। मीडिया ने भी हमारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के लिए सेतु का काम किया है।

सरकार के कार्यकाल को विपक्ष ने कहा झूठ का पुलिंदा

योगी सरकार की उपलब्धियों पर प्रेस कांफ्रेंस के फौरन बाद ही विपक्ष ने अपनी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसे सरकार के झूठ का पुलिंदा बताया. अखिलेश ने ये भी कहा कि ये सरकार झूठी, जुमलेबाज, नफरत फैलानेवाली और दंभी है. कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके योगी सरकार पर निशान साधा और कहा कि उत्तर प्रदेश को क्या बनाया भाजपा सरकार ने : कुपोषण में नम्बर-1, महिलाओं के खिलाफ अपराध मे नम्बर-1, अपहरण के मामले में नम्बर-1, दलितों के खिलाफ अपराध के मामले मे नंम्बर-1. सरकार के दावों पर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी पलटवार किया. संजय सिंह ने कहा कि असल में योगी सरकार ने प्रदेश का बंटाधार किया है. सरकार के दावों से अलग हकीकत कुछ और ही है. कोरोना काल में ये सच सारी दुनिया ने देखा है. बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने भी सरकार को आडे हाथो लेते हुये ट्वीट किया. मायावती ने कहा कि योगी सरकार दावे हवा हवाई है व ये जमीनी हकीकत से दूर हैं. प्रदेश मे गरीवों की बढती बदहाली से जनता परेशान है.

बहरहाल विपक्ष के हमलों से बेअसर बीजेपी के नेता लगातार सरकार की सफलता के दावे कर रहे है और मुख्यमंती ने फिर से दोहराया है कि बीजेपी इस बार 350 सीटे जीतकर एक बार फिर से सत्ता मे वापसी करेगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज