Home /News /uttar-pradesh /

UP Election 2022: पूरब या पश्चिम कहां से होगी यूपी चुनाव की शुरुआत, जानें राजनीतिक मायने!

UP Election 2022: पूरब या पश्चिम कहां से होगी यूपी चुनाव की शुरुआत, जानें राजनीतिक मायने!

UP Election 2022: इस बार देखना दिलचस्प होगा कि चुनाव की शुरुआत किस हिस्से से होती है. (File photo)

UP Election 2022: इस बार देखना दिलचस्प होगा कि चुनाव की शुरुआत किस हिस्से से होती है. (File photo)

UP Chunav 2022 News: माना जाता है कि पहले चरण की वोटिंग का असर बाद की वोटिंग पर पड़ता है. पहले चरण में जिस पार्टी का पलड़ा भारी दिखाई देता है, यानी ये कहा जाने लगता है कि अमूक पार्टी को ज्यादा वोट पड़े हैं, उसके हिसाब से बाकी चरणों में उस पार्टी को अपने पक्ष में हवा बनाने में कामयाबी मिलती है. इसलिए पार्टियों की चाहत रहती है कि उनके स्ट्रांगहोल्ड से चुनाव की शुरुआत हो. चुनावी राजनीति पर शोध करने वाली लखनऊ की संस्था गिरि इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज में एसोसिएट प्रोफेसर चितरंजन सेनापति ने कहा कि पहले चरण के चुनाव में जो माहौल कायम होता है.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों (UP Assembly Election 2022) की घोषणा होने वाली है. वैसे तो हर राज्य अहम है लेकिन, यूपी सबसे अहम है. एक और अहम बात है कि चुनाव की शुरुआत प्रदेश के किस हिस्से से होगी. इसके बड़े राजनीतिक मायने निकाले जाते हैं. पिछले चुनाव में तो पश्चिमी यूपी से चुनाव की शुरुआत हुई थी और पूर्वांचल में आखरी चरण में चुनाव हुए थे. इस बार देखना दिलचस्प होगा कि चुनाव की शुरुआत किस हिस्से से होती है.

माना जाता है कि पहले चरण की वोटिंग का असर बाद की वोटिंग पर पड़ता है. पहले चरण में जिस पार्टी का पलड़ा भारी दिखाई देता है, यानी ये कहा जाने लगता है कि अमूक पार्टी को ज्यादा वोट पड़े हैं, उसके हिसाब से बाकी चरणों में उस पार्टी को अपने पक्ष में हवा बनाने में कामयाबी मिलती है. इसलिए पार्टियों की चाहत रहती है कि उनके स्ट्रांगहोल्ड से चुनाव की शुरुआत हो. चुनावी राजनीति पर शोध करने वाली लखनऊ की संस्था गिरि इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज में एसोसिएट प्रोफेसर चितरंजन सेनापति ने कहा कि पहले चरण के चुनाव में जो माहौल कायम होता है. उसका प्रभाव अगले चरणों में देखने को मिलता है.

कोरोना की वैक्सीन लगाने में ऐसी नौटंकी शायद ही देखी होगी आपने! देखें वायरल Video

पार्टियां माहौल बनाने लगती हैं कि उनके पक्ष में ज्यादा मतदान हो रहा है. इसीलिए बीजेपी कभी नहीं चाहेगी कि पश्चिमी यूपी से चुनाव की शुरुआत हो. ये इलाका किसान आंदोलन का गढ़ रहा है. 2017 के मुकाबले 2022 में राजनीति काफी बदल गयी है. हालांकि वोटर अब इतना चालाक है कि वो पहले से मन बना लेता है कि किसे वोट करना है. इसलिए पहले चरण का बाकी चरणों पर असर तो पड़ता है लेकिन, जितना कहा जाता है उतना नहीं.

राजनीतिक दलों में सियासी गठजोड़
वैसे राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि भाजपा की चाहत होगी कि चुनाव की शुरुआत पूर्वी यूपी से हो. ऐसा इसलिए क्योंकि साल 2017 से लेकर 2022 तक बहुत कुछ बदल गया है. पश्चिमी यूपी में जाट-मुसलमान दंगा बड़ा मुद्दा था तो इस बार किसान आंदोलन. 2017 में पश्चिमी यूपी में राष्ट्रीय लोकदल गायब थी लेकिन, 2022 में उसकी आवाज बुलंद हुई है. 2017 में पूर्वांचल में भाजपा के जो सहयोगी थे. अब 2022 में वे अखिलेश यादव के साथ हैं. 2017 में सवाल अखिलेश यादव से पूछे जाते थे क्योंकि वे सत्ता में थे. अब सवाल योगी सरकार से पूछे जा रहे हैं. बता दें कि साल 2017 में सात चरणों में चुनाव कराये गये थे. 14 फरवरी से 8 मार्च तक वोटिंग हुई थी जबकि 11 मार्च को नतीजे आये थे. 4 जनवरी को इलेक्शन एनाउंस हुआ था.

Tags: Akhilesh yadav, BJP, CM Yogi, Election Commission of India, Lucknow news, Samajwadi party, UP Election 2022, UP news, UP politics, Uttar Pradesh Assembly Election 2022

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर