होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Gandhi Jayanti 2022: जानिए देश की आजादी में लखनऊ के 'फिरंगी महल कोठी' का योगदान, बापू का था गहरा नाता

Gandhi Jayanti 2022: जानिए देश की आजादी में लखनऊ के 'फिरंगी महल कोठी' का योगदान, बापू का था गहरा नाता

Lucknow News: इस घर में महात्मा गांधी जिस कमरे में खुफिया बैठक करते थे वह कमरा आज भी मौजूद है. इसके अलावा जिस कमरे में ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ: महात्मा गांधी की जयंती 2 अक्टूबर को पूरे देश में मनाए जाने की तैयारी है.‌‘बापू’ के नाम से लोकप्रिय राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का लखनऊ से भी गहरा नाता था. लखनऊ के नक्खास में एक बेहद प्राचीन घर है जिसका नाम है फिरंगी महल कोठी. बताया जाता है कि आजादी की लड़ाई के दौरान महात्मा गांधी इसी घर में आते थे और ठहरते थे. मौलाना अब्दुल बारी फिरंगी महली महात्मा गांधी के लिए सारे इंतजाम इसी घर में करते थे. एक ब्राह्मण खाना पकाने के लिए रखा जाता था जो कि गांधीजी के लिए शुद्ध देशी खाना बनाता था. जितने दिन महात्मा गांधी इस घर में रहते थे मौलाना और उनका परिवार भी मांसाहार नहीं खाता था.

यह जानकारी मौलाना अब्दुल बारी फिरंगी महली के परनाती अदनान अब्दुल बारी ने दी है. उन्होंने News18 Local को सारे दस्तावेज दिखाए हैं जिसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि महात्मा गांधी इस घर में ठहरते थे.

आपके शहर से (लखनऊ)

साउथ अफ्रीका से आया था पत्र
अदनान अब्दुल बारी ने बताया कि महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा सिलेक्टेड वर्क्स ऑफ महात्मा गांधी में खुद यह लिखा है कि ‘मैं मौलाना बारी के घर मेहमान रहा. घर पुराने तरीके का बना हुआ है. अदनान आगे बताते हैं कि 3 अगस्त 1921 को मौलाना मोहम्मद अली जौहर की ओर से एक पत्र भेजा गया था मौलाना अब्दुल बारी फिरंगी महली को, जिसमें लिखा था कि गांधी जी यहां पर आ रहे हैं. साउथ अफ्रीका में गांधी जी से उनकी मुलाकात हुई थी और गांधी जी को उन्होंने ही लखनऊ के मौलाना अब्दुल बारी फिरंगी महली की कोठी में ठहरने का सुझाव दिया था.

घर में मौजूद है महात्मा गांधी के निशान
इस घर में महात्मा गांधी जिस कमरे में खुफिया बैठक करते थे वह कमरा आज भी मौजूद है. इसके अलावा जिस कमरे में महात्मा गांधी सोते थे वह कमरा भी यहां पर मौजूद है. अदनान आगे बताते हैं कि महात्मा गांधी इस कोठी में ज्यादा दिन तक नहीं रुक पाते थे, क्योंकि ब्रिटिश सरकार के सैनिक अक्सर इसका घेराव कर लेते थे.

खास बात यह कि अब यह कोठी पर्यटन स्थल बन चुकी है. दूरदराज से पर्यटक यहां पर आते हैं और इस पर रिसर्च करते हैं और यहां से जानकारी जुटाकर ले जाते हैं.

Tags: Gandhi Jayanti, Historical monument, Lucknow news, Mahatma Gandhi news, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें