Home /News /uttar-pradesh /

... और एक ही रात में सूख गई हर की पौड़ी, जानिए क्या है कारण

... और एक ही रात में सूख गई हर की पौड़ी, जानिए क्या है कारण

गंगा कैनाल में पानी रोकने के बाद हर की पौड़ी का नजारा.

गंगा कैनाल में पानी रोकने के बाद हर की पौड़ी का नजारा.

UP News: हर की पौड़ी में अब गंगा का उफान नहीं देखा जा रहा है. शुक्रवार देर रात से ही पानी का बहाव बंद है. दरअसल सिंचाई विभाग ने गंगा कैनाल के रखरखाव का काम शुरू किया है जिसके चलते कुछ समय के लिए पानी को रोका गया है.

    हरिद्वार/लखनऊ. देश भर में गंगा स्नान के लिए प्रसिद्ध हर की पौड़ी एक का पानी एक ही रात में सूख गया. हर की पौड़ी में दिखने वाली उफनती गंगा का पानी अब एक पतली सी धार में नजर आ रहा है. चौंकिए मत दरअसल ये केवल एक रखरखाव के काम के चलते हुआ है. सिंचाई विभाग ने गंगा कैनाल का रखरखाव करने क लिए उसे कुछ समय के लिए हरिद्वार से लेकर कानपुर तक के लिए बंद किया है और इस काम के पूरा होते ही कैनाल को वापस खोल दिया जाएगा और हर की पौड़ी में फिर पानी का बहाव शुरू हो जाएगा.

    कब तक रहेगी बंद
    सिंचाई विभाग, गंगा कैनाल के एसडीओ शिवकुमार कौश‌िक ने बताया कि 15 तारीख की देर रात गंगा कैनाल में पानी को रोक दिया गया है. अब ये 4 से 5 नवंबर तक बंद रह सकती है. उन्होंने इस दौरान बताया कि श्रद्धालुओं के लिए हालांकि हर की पौड़ी में इतना पानी रहने दिया जाएगा जिससे वे अपनी पूजा अर्चना व अन्य धार्मिक कार्य कर सकें.

    किसानों को होगी परेशानी
    गंगा कैनाल में पानी रोकने के चलते अब उत्तर प्रदेश के 19 जिलों के किसानों के लिए कुछ दिनों की परेशानी खड़ी हो गई है. मुजफ्फरनगर, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद, अलीगढ़, एटा, हाथरस और फिरोजाबाद में पानी की सप्लाई बाधित रहेगी. इस दौरान किसानों को खेतों की सिंचाई के लिए ट्यूबवेल और पंपिंग सेट पर निर्भर रहना पड़ेगा. उल्लेखनीय है कि गंगा नहर उत्तर प्रदेश के 19 जिलों के लिए जीवन रेखा के तौर पर देखी जाती है.

    Tags: Ganga river, Haridwar, Uttar pradesh news, Uttarakhand Latest News

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर