लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने के पक्ष में सीएम योगी आदित्यनाथ

News18Hindi
Updated: September 16, 2017, 9:26 PM IST
लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने के पक्ष में सीएम योगी आदित्यनाथ
यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ
News18Hindi
Updated: September 16, 2017, 9:26 PM IST
मनमोहन राय

गोरक्षनाथ पीठ के महंत और पांच बार के सांसद रह चुके योगी आदित्यनाथ 18 सितम्बर को देश के सबसे बड़े प्रदेश यूपी के मुख्यमंत्री के रूप में 6 महीने का कार्यकाल पूरा कर लेंगे. इस मौके पर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक ईटीवी/न्यूज़18 को दिए एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में प्रदेश और देश से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय बेबाकी से रखी.

मूलरूप से गंभीर स्वाभाव के योगी आदित्यनाथ ने एक घंटे के इंटरव्यू में प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था और अपराधियों के खिलाफ पुलिस के आक्रामक रवैये की पैरवी करते दिखे. साथ ही उन्होंने लोकसभा और विधानसभा चुनाव को एक साथ कराये जाने जैसे बहस वाले मुद्दे पर भी अपना रुख साफ किया.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वे प्रधानमंत्री के उस राय से इत्तेफाक रखते हैं जिनमें उन्होंने कहा था कि देश में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव एक साथ होने चाहिए. उन्होंने कहा कि वे इस बात के पक्ष में हैं कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ होना चाहिए.

इंटरव्‍यू में देशभर में एक साथ चुनाव कराए जाने के विषय पर बात करते सीएम योगी


वहीं अपराधियों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस और राम राज्य की परिकल्पना को साकार करने के लिए उन्होंने कहा कि सूबे में आक्रामक पुलिसिंग की जरूरत है. उन्होंने कहा, “अगर अपराधी गोली चलाएगा तो उसे जवाब में गोली ही मिलेगी. अब हमारी पुलिस शांत बैठने वाली नहीं है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि 19 मार्च को शपथ लेने की ठीक बाद ही उन्होंने प्रदेश के असामाजिक तत्वों को एक कड़ा संदेश भेज दिया. उसी का नतीजा है कि बीजेपी की सरकार बनते ही ज्यादातर गैंगस्टर प्रदेश से भागने लगे. कुछ ने तो अन्य राज्यों में समर्पण भी कर दिया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सख्त कानून व्यवस्था को लागू करने की दिशा में सरकार की मंशा एकदम साफ है. अपराधियों को संदेश दिया जा चुका है कि पुलिस अब उनसे सख्ती से निपटेगी. अगर अपराधी गोली चलाएंगे तो बदले में उन्होंने भी गोली ही मिलेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि केवल कानून व्यवस्था ही नहीं सपा और बसपा के 17 साल के राज्य में प्रदेश की सामान्य व्यवस्था भी धराशायी हो गई थी. उन्होंने कहा, “ क्षेत्रीय पार्टियां ही पक्षपात और भ्रष्टाचार की जननी हैं. जब हमने सत्ता संभाली प्रदेश की पूरी व्यवस्था पटरी से उतरी हुई थी.

मैं आपको उन तमाम योजनाओं के बारे में बता सकता हूं जिसे हमने पिछले छह महीनों में लांच किया है. लेकिन उच्च स्तर पर जो हमने सबसे बड़ा काम किया है वह है बाबुओं के काम करने की पद्धति में बदलाव. इसकी वजह से जनता में उम्मीद और सुरक्षा की भावना जगी है. लोगों में एक नई ताकत और ऊर्जा का संचार हुआ है.”

ईटीवी/न्यूज़18 को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू देते यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ


मुख्यमंत्री बड़े ही उत्साह के साथ कहा कि इन छह महीनों में जितनी भी योजनाओं की नींव रखी गई है उसके परिणाम भी आने वाले कुछ महीनों में दिखाई देने लगेंगे. उन्होंने कहा, “जिस समय देश को आजादी मिली, उस वक्त उत्तर प्रदेश नंबर एक के पायदान पर था. लेकिन आज हम सबसे निचले पायदान पर हैं. लेकिन हमारी सरकार इसे बदलेगी और एक बार फिर से यूपी को नंबर एक प्रदेश होने का गौरव प्राप्त होग

मुख्यमंत्री ने कहा, “ सरकार का ध्यान कृषि में सुधर कर और मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट्स के माध्यम से रोजगार के सृजन पर है. मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले कुछ दिनों में कई ऐसे प्रोजोक्ट्स की शुरुआत की जाएगी.

ताज महल और कावड़ यात्रा पर दिए गए विवादित बयान पर मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं अपने शब्दों पर कायम हूं. मैंने जो भी कुछ कहा उसे लेकर मेरे दिमाग में कोई संदेह नहीं है. कावड़ यात्रा एक महत्वपूर्ण संस्कार है.

पहले उन्हें कुछ सुविधाओं से मोहताज रखा जाता था. जिसकी वजह से हिंसा की घटनाएं होती थीं. यहां एक और बात साफ कर दूं कि कावड़ यात्रा एक उसव है कोई शव यात्रा नहीं. इस वजह से हमने यात्रा के दौरान हमने गाने और भजन की मंजूरी दी.”
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर