लाइव टीवी

शांति का संदेश देने साइकिल पर निकली जर्मनी की युवतियां

Prashant Pandey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 5, 2015, 11:15 AM IST
शांति का संदेश देने साइकिल पर निकली जर्मनी की युवतियां
ब्राजील में होने वाले 2016 के रियो ओलंपिक के लिए जर्मनी की दो लड़कियां शांति का सन्देश देने निकली हैं, वह भी साइकिल पर. ये दोनों युवतियां साइकिल यात्रा करके नेपाल जा रही हैं.

ब्राजील में होने वाले 2016 के रियो ओलंपिक के लिए जर्मनी की दो लड़कियां शांति का सन्देश देने निकली हैं, वह भी साइकिल पर. ये दोनों युवतियां साइकिल यात्रा करके नेपाल जा रही हैं.

  • Share this:
ब्राजील में होने वाले 2016 के रियो ओलंपिक के लिए जर्मनी की दो लड़कियां शांति का सन्देश देने निकली हैं, वह भी साइकिल पर. ये दोनों युवतियां साइकिल यात्रा करके नेपाल जा रही हैं.

नेपाल से यह लड़कियां रियो ओलंपिक पहुंचेगी. जर्मनी की निवासी एंजिला और कोलाडा नेपाल जाते वक्त उत्‍तर प्रदेश के खीरी जिले में छाउछ चौराहे पर कुछ समय के लिए विश्राम के लिए रूकी थीं. एंजिला और कोलाडा दोनों बहनें जर्मनी की रहने वाली हैं और करीब दर्जन भर से ज्यादा देशों से होते हुए ये भारत में आई हैं.

ये दोनों साइकिल से दिल्ली से चल कर नेपाल को जा रही हैं. जर्मनी के म्यूनिख शहर की रहने वाली दोनों ही लड़कियां रियो डी जेनेरियो में होने वाले समर ओलंपिक ये दोनों साइकिल से ही शांति संदेश लेकर निकली हैं.

वियना आस्ट्रिया ग्रीस साइप्रस टर्की इजरायल और जॉर्डन होते हुए ये लड़कियां भारत में दाखिल हुई. दिल्ली से साइकिल से ही नेपाल को जाते हुए खीरी जिले में रुकी. एंजिला का कहना है कि भारत में उनका अनुभव अच्छा है. विदेशी महिलाओं को देख भीड़ जमा हो गई. कुछ ने उनसे भारत के अनुभव पूछे. कुछ ने यात्रा के बारे में. लड़कियां

जर्मन बहनों का कहना है कि भारत में शोर बहुत है, जो परेशान करता है. जिसे देखो वह हॉर्न बजा देता है. ये अच्छा नहीं है. एंजिला कहती हैं कि देश में शांति होनी चाहिए. उन्‍होंने कहा कि खेलों को बढ़ावा देकर हम आतंकवाद को रोक सकते हैं और ग्लोबल भाईचारा भी बढ़ा सकते हैं. इसीलिए हम दोनों साइकिल से निकली हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2015, 11:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...