गिरिराज को उलेमा का जवाब- मुसलमानों से कोई नहीं छीन सकता वोट देने का अधिकार

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के दो बच्‍चे वाले बयान पर लखनऊ में धार्मिक उलेमाओं ने सख्त नाराजगी दर्ज कराई है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 8:16 PM IST
गिरिराज को उलेमा का जवाब- मुसलमानों से कोई नहीं छीन सकता वोट देने का अधिकार
गिरिराज सिंह के बयान से नाराज हुए फरंगी महली.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 8:16 PM IST
विश्व जनसंख्या दिवस पर केंद्रीय मंत्री और बिहार के बेगूसराय से भारतीय जनता पार्टी के सांसद गिरिराज सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान देकर चारों ओर हंगामा खड़ा कर दिया है. विश्व जनसंख्या दिवस पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि देश में हिंदू और मुसलमान दोनों के लिए दो बच्चों का नियम होना चाहिए और जो इस नियम को नहीं माने उसका वोटिंग का अधिकार खत्म कर देना चाहिए.

साथ ही गिरिराज सिंह ने कहा, 'बढ़ती हुई जनसंख्या देश के लिए बड़ी चेतावनी है और इससे संसाधन और सामाजिक समरसता को खतरा पैदा हो गया है. लिहाजा जनसंख्या नियंत्रण के लिए सख्त कानून जरूरी है और इसके लिए सड़क से संसद तक प्रयास होने चाहिए.'



विरोधियों पर लगाया ये आरोप
केंद्रीय मंत्री सिंह ने कहा कि वोट के ठेकेदारों ने जनसंख्या को धर्म से जोड़ दिया है. जनसंख्या नियंत्रण को इस्लामिक देश स्वीकार कर रहे हैं और भारत में इसे धर्म से जोड़ा जाता है. जहां-जहां हिंदुओं की जनसंख्या गिरती है वहां-वहां सामाजिक समरसता टूटती है. देश में कुछ लोग अपने लाभ के लिए समाज में विषमता फैलाते हैं.

सिंह के बयान से नाराज हुए उलेमा
गिरिराज सिंह के इस बयान पर लखनऊ में धार्मिक उलेमाओं ने सख्त नाराजगी दर्ज कराई है. ईदगाह के इमाम और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा,'वोट देने का अधिकार हमें संविधान ने दिया है ना कि किसी राजनीतिक पार्टी ने और ना ही किसी व्यक्ति विशेष ने.' उन्होंने आगे कहा,' देश में कोई भी किसी का मताधिकार का अधिकार नहीं छीन सकता और जनसंख्या के नाम पर एक धर्म विशेष को टारगेट करना गलत बात है.'

गिरिराज के बयान पर आजम का पलटवार
Loading...

इससे पहले समाजवादी पार्टी (सपा) के दिग्गज नेता आजम खान ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बयान पर पलटवार किया. उन्होंने तंज कसते हुए कहा है कि जिस परिवार में दो–तीन से ज्यादा बच्चे पैदा हो उन पति-पत्नी को फांसी दे देना चाहिए. क्योंकि इसके बाद नहीं रहेगा बांस और नहीं बजेगी बांसुरी. सपा सांसद आजम खान ने अपने बयान में कहा कि लोकतंत्र की हत्या की जा रही है. उन्होंने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार के शासन से अंग्रेजों का शासन बेहतर था.

ये भी पढ़ें-यूपी विधानसभा उपचुनाव: अखिलेश यादव का फरमान, SP से टिकट चाहिए तो करना होगा ये काम

BJP MLA की बेटी ने इस मंदिर में की थी शादी, मैरिज सर्टिफिकेट को महंत ने बताया फर्जी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...