होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /योगी सरकार 2 साल के अंदर कराएगी 'ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट', 10 लाख करोड़ रुपये निवेश का लक्ष्य

योगी सरकार 2 साल के अंदर कराएगी 'ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट', 10 लाख करोड़ रुपये निवेश का लक्ष्य

यूपी को 2018 में लखनऊ में हुई पिछली 'इन्वेस्टर्स समिट’ में 4.68 लाख करोड़ के निवेश के प्रस्ताव मिले थे.

यूपी को 2018 में लखनऊ में हुई पिछली 'इन्वेस्टर्स समिट’ में 4.68 लाख करोड़ के निवेश के प्रस्ताव मिले थे.

Global Investors Summit: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अगले दो वर्षों के अंदर राज्य में 10 लाख करोड़ रुपये के निवेश लक् ...अधिक पढ़ें

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अगले दो वर्षों के अंदर राज्य में 10 लाख करोड़ रुपये के निवेश लक्ष्य के साथ ‘ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट’ के आयोजन के निर्देश दिए हैं. निवेशकों के वैश्विक शिखर सम्मेलन (ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट) का आयोजन आगामी दो साल के अंदर किया जायेगा. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को मंत्रिमंडल के समक्ष अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास क्षेत्र के 11 विभागों की भावी कार्ययोजना के प्रस्तुतिकरण को देखने के बाद विस्तृत दिशा-निर्देश दिए हैं.

सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी ने इस अवसर पर कहा कि वर्ष 2018 में लखनऊ में हुई पिछली ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट’ में 4.68 लाख करोड़ के निवेश के प्रस्ताव मिले थे, जिनमें से तीन लाख करोड़ से ज्यादा के प्रस्ताव धरातल पर साकार हो रहे हैं. प्रवक्ता ने कहा कि अगले दो वर्ष के भीतर उत्तर प्रदेश सरकार ‘ग्लोबल इन्वेस्टर समिट’ का आयोजन करेगी, लेकिन इस बार 10 लाख करोड़ के निवेश के लक्ष्य के साथ काम करना है.

योगी ने कहा कि यह समिट नए उत्तर प्रदेश की आकांक्षाओं को उड़ान देने वाली होगी. इस संबंध में सभी जरूरी तैयारियां शीर्ष प्राथमिकता के साथ पूरी की जाएं. मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यापार सहूलियत (ईज ऑफ डूइंग बिजनेस) की राष्ट्रीय रैंकिंग को द्वितीय से प्रथम पायदान पर लाने के लक्ष्य के साथ ‘टीम यूपी’ काम करेगी. इसके लिए निवेश और कारोबार के नियमों को आवश्यकतानुसार और सरल किया जाए.

आपके शहर से (लखनऊ)

प्रदेश के निर्यात को लेकर कही ये बात
सीएम योगी यह भी कहा कि प्रदेश के निर्यात को डेढ़ से बढ़ाकर दो लाख करोड़ तक ले जाने के लिए ‘टीम यूपी’ को नियोजित रूप से कार्य करना होगा. इस संबंध में विस्तृत कार्ययोजना बनाई जाए. इसके साथ योगी ने कहा कि सड़कें किसी भी प्रदेश की तरक्की का आइना होती हैं. आधारभूत सुविधाएं मिलने से बड़े पैमाने पर निवेश आकर्षित होते हैं और लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध होते हैं. लोक निर्माण विभाग ने सड़कों और पुलों के माध्यम से लोगों के जीवन को सुगम बनाने की दिशा में अभूतपूर्व कार्य किया है. विभाग के सभी कार्यों में पारदर्शिता, गुणवत्ता और समयबद्धता को प्राथमिकता पर रखा जाए. सड़कों के निर्माण और मेनटेनेंस में कार्यदायी संस्था को जिम्मेदार ठहराया जाए और समय से पहले टूटने वाली सड़कों का अविलंब सुदृढीकरण कराया जाए. अगले पांच वर्षों में 10 हजार किमी सड़कों का चौड़ीकरण और सुदृढीकरण किया जाना है. ऐसे में चरणवार लक्ष्य तय कार्य को पूरा किया जाए.

Tags: UP Government, Yogi adityanath

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें