Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    UP के गन्ना किसानों के लिए अच्छी खबर, 42 चीनी मिलें शुरू, 15 नवंबर तक सभी 119 मिलों में पेराई

    चीनी मिल (सांकेतिक तस्वीर)
    चीनी मिल (सांकेतिक तस्वीर)

    उत्तर प्रदेश (UP) के अपर मुख्य सचिव, गन्ना एवं चीनी विभाग संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि किसानों की समय पर गन्ने की सप्लाई कराकर उन्हें दूसरी फसलों का लाभ दिलाने के लिए सरकार ने बीते 1 सप्ताह के अंदर ही UP की 42 चीनी मिलें शुरू कर दी हैं.

    • Share this:
    लखनऊ. देश में सर्वाधिक चीनी का उत्पादन करने वाले उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में गन्ना किसानों (Sugarcane Farmers) के लिये एक अच्छी खबर है. यूपी में गन्ने के नये पेराई सत्र 2020-21 का शुभारंभ हो गया है. एक ओर जहां यूपी की 119 चीनी मिलों में से पश्चिमी यूपी की 42 चीनी मिल शुरू हो गई हैं, वहीं दूसरी ओर पश्चिमी यूपी के साथ पूर्वाचल तक यूपी की सभी चीनी मिलो को आगामी 15 नवंबर तक शुरू करने के लिये युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है.

    हर साल 48 लाख गन्ना किसानों को होता है लाभ

    त्तर प्रदेश में गन्ने का सर्वाधिक उत्पादन होने के चलते ही यूपी में देश की सर्वाधिक चीनी का उत्पादन किय़ा जाता है. यूपी की 119 चीनी मिलों में प्रदेश के 70 लाख गन्ना किसान रजिस्टर्ड है. जिनमें से 48 लाख गन्ना किसान हर वर्ष प्रदेश की 195 गन्ना समितियो के जरिये अपने क्षेत्र में स्थित चीनी मिल में गन्ने की सप्लाई करते हैं. ऐसे में उत्तर प्रदेश की राजनीति खासकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानों की एक अहम भागीदारी को देखते हुए सत्ता में आते ही योगी सरकार गन्ना किसानों की समस्याओ के समाधान के लिये हर संभव प्रयास कर रही है.



    एक सप्ताह में शुरू हो गईं 42 चीनी मिलें: संजय भूसरेड्डी
    प्रदेश अपर मुख्य सचिव, गन्ना एवं चीनी विभाग संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि गन्ना किसानो की समय पर गन्ने की सप्लाई कराकर उन्हें दूसरी फसलों का लाभ दिलाने के लिए सरकार ने बीते 1 सप्ताह के अंदर ही UP की 42 चीनी मिलें शुरू कर दी हैं. वहीं बाकी पर भी तेजी से तैयारी चल रही है, इन्हें भी जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज