गोरखपुर: बच्चों की मौत मामले में बड़ी कार्रवाई की तैयारी, नपेंगे कई अफसर

News18Hindi
Updated: August 12, 2017, 12:39 PM IST
गोरखपुर: बच्चों की मौत मामले में बड़ी कार्रवाई की तैयारी, नपेंगे कई अफसर
बच्चे की मौत के बाद दुखी परिजन
News18Hindi
Updated: August 12, 2017, 12:39 PM IST
गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 33 बच्चों की मौत के बाद अब प्रदेश की योगी सरकार बड़ी कार्रवाई करने की तैयारी में है. कहा जा रहा है कि जांच रिपोर्ट आने के बाद प्रशासनिक, स्वास्थ्य और चिकित्सा विभाग से जुड़े अधिकारियों पर गाज गिर सकती है.

अब से कुछ देर में स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह और प्राविधिक एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन अपनी जांच रिपोर्ट सीएम ऑफिस को सौंपेंगे. इस रिपोर्ट के बाद कई अधिकारियों पर गाज गिरना तय है.

बता दें कि ऑक्सीजन की सप्लाई न होने की वजह से दो दिनों में 26 बच्चों समेत 33 लोगों की मौत हुई थी. इस मामले में ऑक्सीजन की सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स के लखनऊ ऑफिस पर भी छापेमारी की गई है. आरोप है कि पेमेंट न होने की वजह से मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की सप्लाई रोक दी गई थी.

इस बीच पुष्प सेल्स की एचआर हेड मीनू वालिया ने कहा है कि मौतें ऑक्सीजन की सप्लाई ठप होने से नहीं हुई. कोई भी इस तरह सप्लाई बंद नहीं कर सकता हम जानते हैं कि इसके परिणाम क्या हो सकते हैं.

वालिया ने कहा कि हम लोगों पेमेंट के लिए सम्बंधित अधिकारियों को कई बार पत्र लिखा मगर किसी ने कोई सुनवाई नहीं की.

वहीं पुष्प सेल्स के मालिक मनीष भंडारी ने कहा है कि कॉलेज प्रशासन के रवैये के वजह से सब कुछ हुआ. इसमें सिर्फ और सिर्फ कॉलेज प्रशासन की गलती है. देर रात 52 लाख रुपए रिलीज़ कर दिए गए हैं. राजस्थान से ऑक्सीजन सिलिंडर की खेप चल चुकी है देर शाम तक गोरखपुर पहुंचेगी.

दरअसल, बीआरडी मेडिकल कॉलेज छह महीने में 83 लाख रु. की ऑक्सीजन उधार ले चुका है. गुजरात की सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स का दावा है कि करीब 100 बार चिट्‌ठी भेजने के बाद भी पेमेंट नहीं हुई. ऐसे में 1 अगस्त को चेतावनी दी और 4 से सप्लाई रोक दी. बुधवार से ऑक्सीजन टैंक में प्रेशर घटने लगा. इसके चलते गुरुवार और शुक्रवार को गंभीर हालत के मरीजों की मौत हो गई.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर