सरकार जल्द करेगी गन्ना किसानों को 10,000 करोड़ का भुगतान

"गन्ने का बकाया घटकर करीब 10,000 करोड़ रुपये रह गया है. हमने 20 अक्टूबर से नए सत्र की शुरुआत से पहले 72.45 प्रति डॉलर इस बकाया राशि को शून्य करने का लक्ष्य रखा है."

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 10:45 PM IST
सरकार जल्द करेगी गन्ना किसानों को 10,000 करोड़ का भुगतान
गन्ना बकाये को खत्म करेगी सरकार (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 10:45 PM IST
उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने सोमवार को कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगा कि आगामी अक्तूबर में चीनी मिलों में पेराई आरंभ होने से पहले किसानों को उनके गन्ने का पुराना 10,000 करोड़ रुपये का पूरा बकाया चुका दिया जाए. उन्होंने कहा कि आने वाले सप्ताह में सहकारी और निजी क्षेत्र की मिलों पर गन्ने की बकाया राशि का निपटान करने के लिए 5,535 करोड़ रुपये की मदद का पैकेज मंत्रिमंडल के समक्ष पेश किया जाएगा. गन्ना पेराई उत्तर प्रदेश में 20 अक्टूबर से आरंभ होती है.

राणा ने नेशनल फेडरेशन आफ सूगर फैक्टरीज लिमिटेड (एनएफएसएफएल) की वार्षिक आम बैठक के मौके पर  से कहा, "गन्ने का बकाया घटकर करीब 10,000 करोड़ रुपये रह गया है. हमने 20 अक्टूबर से नए सत्र की शुरुआत से पहले 72.45 प्रति डॉलर इस बकाया राशि को शून्य करने का लक्ष्य रखा है." उन्होंने कहा कि इसके लिए 5,535 करोड़ रुपये की राशि की मंजूरी का प्रस्ताव मंत्रिमंडल के समक्ष पेश करेगी. यह राशि चीनी क्षेत्र के लिए बजट के प्रावधानों के तहत मांगा जा रहा है.

अयोध्या में फिर भव्य दीपोत्सव की तैयारी, इस बार 3 लाख दीप जलाने का लक्ष्य

प्रस्ताव के मुताबिक, राणा ने कहा कि राज्य सरकार ने गन्ना बकाया राशि के प्रत्यक्ष भुगतान के लिए सहकारी मिलों को 1,010 करोड़ रुपये, सरकारी मिलों को 25 करोड़ रुपये और निजी मिलों को 500 करोड़ रुपये प्रदान करने की योजना बनायी है. निजी मिलों को आसान शर्तों पर 4,000 करोड़ रुपये की रिण सहायता उपलब्ध करवाएगी. उन्होंने इसका ब्योरा नहीं दिया. इससे पहले वार्षिक आम बैठक में मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार गन्ना उत्पादकों के प्रति प्रतिबद्ध है.

जनता महंगाई से परेशान और BJP अहंकार में चूर है- अखिलेश यादव

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने 2017-18 सत्र (अक्टूबर-सितंबर) में देश में 3.2 करोड़ टन चीनी उत्पादन में 38 प्रतिशत योगदान किया. उन्होंने कहा कि फसल अच्छी होने तथा चीनी का पड़ता बेहतर होने से चीनी का उत्पादन बढ़ा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर