लाइव टीवी

कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात ATS ने सूरत से 6 लोगों को हिरासत में लिया

News18Hindi
Updated: October 19, 2019, 9:58 AM IST
कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात ATS ने सूरत से 6 लोगों को हिरासत में लिया
शुक्रवार को कमलेश तिवारी की लखनऊ में गला रेतकर हत्या कर दी गई थी. (फाइल फोटो)

गुजरात एटीएस ने जिन छह लोगों को हिरासत में लिया है उनमें से एक की भूमिका इस हत्याकांड में संदिग्ध बताई जा रही है. गुजरात एटीएस की टीम यूपी पुलिस और एसआईटी से लगातार संपर्क में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 19, 2019, 9:58 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के पूर्व अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या (Kamlesh Tiwari Murder) हत्या मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. गुजरात (Gujarat) के सूरत (Surat) से पुलिस ने छह लोगों को हिरासत में लिया है. हिरासत में लिए गए छह में से एक की भूमिका मर्डर में संदिग्ध बताई जा रही है. इन सभी को गुजरात एटीएस ने हिरासत में लिया है और यह टीम यूपी पुलिस और एसआईटी से लगातार संपर्क में है. बता दें कि शुक्रवार को लखनऊ में कमलेश तिवारी की उनके ही घर में गला रेतकर हत्या कर दी गई थी.

हत्या के बाद रूम से मिला था सूरत का डब्बा
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके कमरे से सूरत घारी मिठाई का डब्बा मिला था. घारी सूरत की मशहूर मिठाई है. इस डब्बे में आरोपियों ने हथियार लाए थे. बताया जा रहा है कि सूरत की धरती फूड एंड स्वीट दुकान से यह घारी मिठाई खरीदी गई थी. यह जानकारी सामने आने के बाद सूरत पुलिस की टीम ने दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे को चेक भी किया था.


Loading...

ISIS आतंकियों ने लिया था कमलेश तिवारी का नाम
बता दें कि गुजरात एटीएस ने दो साल पहले यानी अक्टूबर 2017 में आईएसआईएस के दो आतंकियों को पकड़ा था. इन दोनों आरोपियों को कमलेश तिवारी का वीडियो दिखाकर उन्हें मारने के लिए कहा गया था. गिरफ्तार आतंकियों से जब पुलिस ने पूछताछ की थी तो उन्होंने कमलेश तिवारी का नाम लिया था.

कमलेश तिवारी हत्याकांड की ये सीसीटीवी फुटेज न्यूज18 के पास एक्सक्लूसिव है.
कमलेश तिवारी हत्याकांड की ये सीसीटीवी फुटेज न्यूज़ 18 के पास एक्सक्लूसिव है


मामले की जांच के लिए UP सरकार ने गठित की SIT
वहीं शुक्रवार को हुई कमलेश तिवारी की हत्या मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एसआईटी गठित की है. इस टीम में लखनऊ के आईजी एस.के भगत, एसपी क्राइम लखनऊ दिनेश पुरी और स्पेशल टास्क फोर्स के डिप्टी एसपी पी.के मिश्रा होंगे. डीजीपी के मुताबिक तिवारी को पिछले कई महीनों से सुरक्षा उपलब्ध कराई गई थी. वारदात के समय एक सुरक्षाकर्मी उनके आवास के नीचे तैनात था, जिसने हत्यारों को रोका और कमलेश तिवारी से पूछकर ही उन्हें अंदर जाने दिया. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच तेजी से करते हुए हत्यारों को तुरंत पकड़ा जाएगा.

ये भी पढ़ें-

कमलेश तिवारी हत्याकांड: UP सरकार ने जांच के लिए किया SIT का गठन

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद सख्त हुए CM योगी, तलब की रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 8:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...