हाथरस कांड: हाईकोर्ट ने CBI से पूछा- कितने समय में पूरी होगी जांच? 25 नवंबर को दाखिल करें स्टेटस रिपोर्ट

(फाइल फोटो)
(फाइल फोटो)

Hathras Case: इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने हाथरस के डीम के अभी भी वहीं नियुक्‍त रहने पर भी सवाल पूछा. कोर्ट ने कहा कि निष्‍पक्ष जांच के लिए क्‍या कलेक्‍टर को कहीं और शिफ्ट नहीं किया जाना चाहिए?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 6:34 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. हाथरस मामले (Hathras Case) में 2 नवंबर को हुई सुनवाई के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) की लखनऊ बेंच ने आदेश सुरक्षित रखा था, जो गुरुवार को सुनाया गया. जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस राजन रॉय ने गुरुवार को सुनाए आदेश में CBI से पूछा कि मामले की जांच कब पूरी होगी? वहीं, 25 नवंबर को होने वाली अगली सुनवाई में जांच की स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश दिया.

हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार के बारे में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा कि विवेचना के दौरान क्या उन्हें हाथरस में बनाए रखना निष्पक्ष और उचित है? कोर्ट ने सरकार से सवाल किया कि जांच की निष्पक्षता और पारदर्शिता के लिए डीएम को कहीं शिफ्ट करना उचित नहीं होगा क्या? कोर्ट के सवाल पर सरकार पक्ष रख रहे वकील ने कहा कि अगली सुनवाई पर डीएम के मुद्दे पर सरकार का रुख स्पष्ट करेंगे. मामले की अगली सुनवाई 25 नवंबर को होगी.

हाईकोर्ट अपने आदेश में सीबीआई के वकील अनुराग सिंह से मामले की अगली सुनवाई के दौरान प्रकरण की जांच की स्थिति रिपोर्ट पेश करने को कहा है. साथ ही यह भी पूछा है कि एजेंसी मामले की जांच में अभी और कितना समय लेगी? गौरतलब है कि पिछली 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 19 वर्षीय एक दलित युवती से 4 युवकों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया था. बाद में दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी. इस मामले में पुलिस अधीक्षक समेत कई पुलिस अफसरों को निलंबित किया गया था. सीबीआई की टीम लगातार हाथरस में कैंप कर रही है, वह अब तक पीड़ित परिवार से कई दौर की पूछताछ भी कर चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज