होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /महादेव के दर्शन के लिए भक्त लेते हैं नाव का सहारा, जानें 90 साल पुराने मंदिर का इतिहास

महादेव के दर्शन के लिए भक्त लेते हैं नाव का सहारा, जानें 90 साल पुराने मंदिर का इतिहास

Lucknow Lord Shiva Temple: मंदिर के महंत संतोष मिश्रा ने बताया कि यह मंदिर सुबह 8:00 बजे खुल जाता है और रात में 11:30 ब ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में यूं तो कई अद्भुत इमारतें और मंदिर हैं जो खुद में ही विशाल इतिहास समेटे हुए हैं. लेकिन लखनऊ में इकलौता ऐसा मंदिर है जो नदी के बीचों-बीच बना हुआ है. जी हां लखनऊ में महादेव का गोमेश्वर महादेव मंदिर है जो कि गोमती नदी के बीचों-बीच बना हुआ है. इस मंदिर की स्थापना 1932 में की गई थी. पहले यह मंदिर किनारे पर था लेकिन जब बाढ़ आई तब मंदिर नदी के बीचों-बीच चला गया. अब यहां पर दर्शन करने के लिए भक्तों को नाव का सहारा लेना पड़ता है. खास बात यह भी है कि मंदिर के सेवक राजू गौतम नाव चलाते हैं और भक्तों से किसी भी तरह के पैसे नहीं लेते हैं, जो भक्त जितने पैसे दे देता है वह ले लेते हैं.

इस मंदिर के दर्शन करने जाना हमारे लिए भी अद्भुत यात्रा थी. सबसे पहले आपको इस मंदिर में पहुंचने के लिए उपासना स्थल पहुंचना होगा जो कि मनकामेश्वर मंदिर से थोड़ा पहले है. इस स्थल पर आपको पहुंचने के बाद नीचे जैसे आप उतरेंगे थोड़ा अंदर जाने पर आपको मंदिर नजर आ जायेगा. खास बात यह कि जैसे ही नाव मंदिर के थोड़ी करीब पहुंचती है मंत्रों की ध्वनि आपके परेशान मन को भी शांत कर देगी और जब आप इस मंदिर में प्रवेश करेंगे तो यहां शांति की अनुभूति होगी.

आपके शहर से (लखनऊ)

यहां पर विराजमान हैं बाबा बर्फानी भोलेनाथ जो एकदम सफेद शिवलिंग है जो खुद में बेहद आकर्षक है. ऐसी शिवलिंग आपने लखनऊ में कहीं नहीं देखी होगी. इस मंदिर में भोलेनाथ के अलावा राम भक्त हनुमान, भोलेनाथ का पूरा परिवार और संतोषी मां की भी प्रतिमा है. यहां पर इसके अलावा हवन कुंड है. मंदिर चारों ओर पानी से घिरा हुआ होने की वजह से आपको यहां पर बत्तख और कबूतर नजर आ जाएंगे.

सुबह 8 बजे खुल जाता है मंदिर
मंदिर के महंत संतोष मिश्रा ने बताया कि यह मंदिर सुबह 8:00 बजे खुल जाता है और रात में 11:30 बजे बंद होता है. शिवलिंग का मुख उत्तर दिशा की ओर है. यहां पर आरती का समय सुबह 8:00 बजे और रात में 7:30 बजे है. उन्होंने बताया कि यह मंदिर 1932 का है. सेवक राजू गौतम ने बताया कि वह मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं से कोई पैसा नहीं लेते हैं.

Tags: Hindu Temple, Lord Shiva, Lucknow news, UP news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें