यूपी की पुलिसिंग में ऐतिहासिक बदलाव, अब एक थाने में चार इंस्पेक्टर होंगे तैनात

डीजीपी ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस थानों में बढ़ रही चुनौतियों और उच्चतम न्यायालय द्वारा कानून व्यवस्था और अपराध को अलग-अलग करने के सुझाव को देखते हुए नई व्यवस्था लागू की जा रही है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 4:10 PM IST
यूपी की पुलिसिंग में ऐतिहासिक बदलाव, अब एक थाने में चार इंस्पेक्टर होंगे तैनात
डीजीपी ओपी सिंह (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 4:10 PM IST
उत्तर प्रदेश की पुलिस सिस्टम में ऐतिहासिक बदलाव करते हुए डीजीपी ओपी सिंह ने गुरुवार को सभी जिलों के कप्तानों से एक थानों में चार इंस्पेक्टर की तैनाती के आदेश जारी कर दिए. नई व्यवस्था के तहत थाने में एक मुख्य इंस्पेक्टर के अलावा, इंस्पेक्टर क्राईम, इंस्पेक्टर लॉ एंड ऑर्डर और इंस्पेक्टर एडमिन की तैनाती होगी.

डीजीपी ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस थानों में बढ़ रही चुनौतियों और उच्चतम न्यायालय द्वारा कानून व्यवस्था और अपराध को अलग-अलग करने के सुझाव को देखते हुए नई व्यवस्था लागू की जा रही है.
इस व्यवस्था के तहत क्षेत्राधिकारी मुख्यालय के थानों पर चार इंस्पेक्टर तैनात किए जाएंगे. इस प्रकार क्षेत्राधिकारी मुख्यालय के थानों पर 1+3 निरीक्षक रैंक के अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे. वैसे इन नियुक्तियों में एसएसपी या एसपी यह सुनिश्चित करेंगे की प्रभारी निरीक्षक वरिष्ठतम होना चाहिए.

यह भी पढ़ें: यूपी ATS के आईजी असीम अरुण ने बनाई थी SWAT टीम, अब विवादों में घिरे

दरअसल पिछले दिनों प्रमोशन के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने इंस्पेक्टर की संख्या में काफी इजाफा हो गया है. पिछले दिनों 2227 दरोगाओं के इंस्पेक्टर के पद पर प्रमोशन हुआ है, जिसके कारण प्रदेश के थानों में इंस्पेक्टरों की संख्या यूपी पुलिस के आला अफसरों के लिए समस्या बन गई थी. इसी से निपटने के लिए अब थानों में अपराध और कानून व्यवस्था को अलग-अलग ढंग से देखने की योजना बनाई गई है. योजना है कि हर थाने में चार इंस्पेक्टर होंगे, जो क्राइम और कानून व्यवस्था को अलग-अलग देखेंगे.

जानकारी के अनुसार इस समय लखनऊ में ही 43 थाने हैं, जिनमें 167 इंस्पेक्टर तैनात हैं. सरकार का मानना है कि इस व्यवस्था से प्रदेश में अपराध की जांच और कानून व्यवस्था के मामलों से निपटने में आसानी मिलेगी. अभी तक एक ही इंस्पेक्टर के हवाले अपराध और कानून व्यवस्था दुरुस्त रखने की जिम्मेदारी होती थी.

(रिपोर्ट: रिषभमणि त्रिपाठी)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर