लाइव टीवी

कमलेश तिवारी हत्याकांड: कैसे एक मिठाई के डिब्बे से आरोपियों तक पहुंची गुजरात ATS

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 19, 2019, 5:32 PM IST
कमलेश तिवारी हत्याकांड: कैसे एक मिठाई के डिब्बे से आरोपियों तक पहुंची गुजरात ATS
शुक्रवार को लखनऊ में कमलेश तिवारी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी.

कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder) की गुत्थी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही सुलझा ली. इस केस में मिठाई का एक डिब्बा अहम सुराग बना. कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की हत्या के बाद मिठाई का डिब्बा उनके कमरे से बरामद हुआ था.

  • Share this:
लखनऊ. कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder) की गुत्थी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही सुलझा ली. इस केस में मिठाई का एक डिब्बा अहम सुराग बना. कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की हत्या के बाद मिठाई का डिब्बा उनके कमरे से बरामद हुआ था. उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह (DGP OP Signh) ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस (PC) इस संबंध में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या के पीछे 2015 में दिया गया भड़काऊ भाषण मुख्य वजह बना. वहीं मिठाई का डिब्बा आरोपियों को पकड़ने में मददगार साबित हुआ.

शुक्रवार को कमलेश तिवारी की लखनऊ में गला रेतकर हत्या कर दी गई थी. इसके बाद उनके कमरे से एक मिठाई का डिब्बा मिला था. इस डिब्बे में आरोपी हथियार लेकर आए थे. हत्या के बाद मिठाई का डिब्बा कमरे में ही रह गया. इसी के माध्यम से पुलिस आरोपियों तक पहुंच पाई.



मिठाई के डिब्बे से मिले अहम सुराग
Loading...

इस संबंध में जानकारी देते हुए यूपी डीजीपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'सुराग मिलने के बाद शुक्रवार को ही टीम गठित कर दिया गया था. छानबीन में पता चला कि घटना के तार गुजरात से जुड़े हुए हैं. मिठाई के डिब्बे से जो सुराग मिले उसके बाद मैंने गुजरात के डीजीपी से बात की. मिठाई का डिब्बा सूरत जिले की जिस दुकान से संबंधित था, वहां के आस-पास की सीसीटीवी फुटेज की छानबीन से एक संदिग्ध व्यक्ति की पहचान की गई.'



आरोपियों की उम्र 21 और 23 साल
उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश पुलिस और गुजरात एटीएस के संयुक्त अभियान में कुल 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है. एटीएस ने कुछ अन्य को भी डिटेन किया था लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया और अब उनपर नजर रखी जाएगी. ओपी सिंह ने बताया कि हिरासत में लिए गए तीन में से एक मोहसिन शेख सलीम है, जो सूरत का रहने वाला है वहीं दूसरा फैजान है, जो सूरत में ही जिलानी अपार्टमेंट का रहने वाला है. ये 21 साल का है और जूते की दुकान पर काम करता है. डीजीपी के अनुसार मौका ए वारदात से बरामद मिठाई के डिब्बे की खरीद में फैजान लिप्त पाया गया है. वहीं तीसरा शख्स रशीद अहमद पठान हैं. ये 23 साल का है इसे कंप्यूटर चलाने की जानकारी भी है.

आरोपियों ने कबूला अपना गुनाह
डीजीपी का कहना है कि वारदात में शामिल आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. उन्होंने कहा, 'प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों ने स्वीकार किया है कि वारदात में उनकी संलिप्तता रही है. वह किसी न किसी रूप में इससे जुड़े हुए हैं. आरोपियों का पकड़ा जाना उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए बड़ी सफलता है.'

ये भी पढ़ें-

कमलेश तिवारी हत्याकांड: दुबई में रची गई साजिश, हत्या के लिए सूरत से खरीदी पिस्टल- गुजरात ATS

कमलेश तिवारी हत्याकांड: भड़काऊ बयान बनी हत्या की वजह, 3 लोगों को गिरफ्तार किया: DGP

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Surat से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 3:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...