लाइव टीवी

सोशल मीडिया पर CM योगी और अखिलेश से ज्‍यादा पॉपुलर हैं IAS बी चंद्रकला
Lucknow News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 6, 2019, 3:24 PM IST
सोशल मीडिया पर CM योगी और अखिलेश से ज्‍यादा पॉपुलर हैं IAS बी चंद्रकला
आईएएस बी चंद्रकला

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को करीब 57 लाख लोग फॉलो करते हैं जबकि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को फेसबुक पर करीब 68 लाख लोग फॉलो करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2019, 3:24 PM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश के अवैध रेत खनन मामले में आईएएस बी चंद्रकला के खिलाफ सीबीआई ने केस दर्ज कर लिया है. यूपी कैडर की 2008 बैच की आईएएस अधिकारी अक्सर सुर्खियों में बनी रहती हैं. बी चंद्रकला तेलंगाना की रहने वाली हैं. चंद्रकला को फेसबुक पर 86 लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को करीब 57 लाख लोग फॉलो करते हैं जबकि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को फेसबुक पर करीब 68 लाख लोग फॉलो करते हैं.

IAS बी चंद्रकला के घर CBI का छापा, दिल्ली-यूपी में 12 जगहों पर दबिश

सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई जल्द ही चंद्रकला सहित इस मामले से जुड़े और भी लोगों की गिरफ्तारी कर सकती है. सीबीआई ने इसके साथ ही 2012 से 2016 के बीच खनन मंत्री की भूमिका की जांच के लिए भी लिखा है.



चर्चित आईएएस बी चंद्रकला




कौन हैं IAS बी चंद्रकला, जिनके घर CBI ने मारा छापा

सीबीआई ने चंद्रकला समेत हमीरपुर के तत्कालीन खनन अधिकारी मोइनुद्दीन, खनन क्लर्क रामआसरे प्रजापति, हमीरपुर से सपा एमएलसी रमेश मिश्रा, रमेश के भाई दिनेश मिश्रा के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की है. वहीं एफआईआर में हमीरपुर के अंबिका तिवारी, संजय दीक्षित, सत्यदेव दीक्षित का भी नाम है.

अवैध रेत खनन मामले में अखिलेश यादव समेत सभी मंत्रियों के खिलाफ जांच करेगी सीबीआई

वहीं सीबीआई के सूत्रों का कहना है कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खिलाफ भी जांच की जाएगी. बता दें कि साल 2012 से 2017 के बीच खनन मंत्रालय अखिलेश यादव के ही पास था, जो उस समय प्रदेश के मुख्यमंत्री भी थे. अखिलेश के साथ-साथ उस अवधि में जितने भी मंत्री थे, सभी जांच के दायरे में आएंगे.

कानपुर: अवैध खनन में मामले में सपा MLC के घर सीबीआई ने मारा छापा

बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार में आईएएस बी. चंद्रकला की पोस्टिंग पहली बार हमीरपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर की गई थी. आरोप है कि इस आईएएस ने जुलाई 2012 के बाद हमीरपुर जिले में 50 मौरंग के खनन के पट्टे किए थे, जबकि ई-टेंडर के जरिये मौरंग के पट्टों पर स्वीकृति देने का प्रावधान था, लेकिन चंद्रकला ने सारे प्रावधानों की अनदेखी की थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 6, 2019, 9:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading