आईएएस अफसर पर पत्नी की हत्या का केस, चचेरे भाई ने की CBI जांच की मांग

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) के चिनहट के विकल्पखंड स्थित सूडा के निदेशक उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता की मौत मामले में नया मोड़ आ गया है. मामले में अनीता के चचेरे भाई ने सीबीआई जांच की मांग की है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 6, 2019, 3:02 PM IST
आईएएस अफसर पर पत्नी की हत्या का केस, चचेरे भाई ने की CBI जांच की मांग
आईएएस उमेश प्रताप सिंह (फाइल फोटो) के खिलाफ पत्नी की हत्या का केस लखनऊ में दर्ज किया गया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 6, 2019, 3:02 PM IST
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) के चिनहट के विकल्पखंड स्थित सूडा के निदेशक उमेश प्रताप सिंह (State Urban Development Authority Director Umesh Pratap Singh) की पत्नी अनीता की मौत मामले में नया मोड़ आ गया है. मामले में उमेश प्रताप सिंह के चचेरे साले राजीव कुमार सिंह ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. इसके बाद लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस कर मामले की सीबीआई जांच की मांग की है. इसके साथ ही उन्होंने आईएएस के फौरन निलंबन की भी मांग की है. उन्होंने आईएएस पर अपनी बहन के साथ मारपीट और कई महिलाओं से संबंध होने के आरोप लगाये हैं.

लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस कर राजीव ने बताया कि वह अनीता के चचेरे भाई हैं. उन्होंने आईएएस अधिकारी उमेश प्रताप सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि गोली लगने के 2 घंटे बाद उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी. राजीव सिंह ने कहा कि मुझे कल एफआईआर दर्ज करवाने के लिए डेढ़ घंटे तक चिनहट पुलिस थाने में बैठना पड़ा. उन्होंने आरोप लगाया कि एसएचओ चिनहट भी उसी गांव के हैं, जहां के आईएएस उमेश प्रताप सिंह हैं. अब आप पूरी स्थिति समझ सकते हैं. राजीव सिंह ने कहा कि एफआईआर दर्ज होने के बाद उमेश प्रताप सिंह ने फोन पर धमकी भरे लहजे में केस वापस लेने की बात कही लेकिन मैंने मना कर दिया.

उन्होंने कहा कि जिन हालात में मेरी बहन मृत पाई गई, उस पर संदेह है. कई दिनों के प्रयास के बाद भी उन्हें पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट देखने नहीं दी जा रही है. ये ऐसा मामला है, जिसकी जांच सीबीआई से कराए जाने की आवश्यकता है.

पुलिस को फोरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार

उधर पुलिस (Police) मामले को संदिग्ध मानते हुए इसकी हर एंगल से जांच कर रही है. पुलिस का कहना है कि उसे सूचना दो घंटे देरी से मिली. मामले में पोस्टमॉर्टम और फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति साफ होगी. उधर, आईएएस अफसर के बेटे आशुतोष ने बताया कि गोली चलने की आवाज पर वो फ़र्स्ट फ्लोर पर स्थित अपनी मां के कमरे की तरफ भागे. वहां उसने अपने पिता को कमरे का दरवाजा तोड़ते हुए देखा. इसके बाद खून से लथपथ मां को फौरन एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया. ट्रॉमा सेंटर में डॉक्टरों ने अनीता को मृत घोषित कर दिया गया. परिवारजनों ने करीब चार बजे पुलिस को सूचना दी.

आईएएस ने कहा- पत्नी दो साल से थीं अवसादग्रस्त

वहीं आईएएस अफसर उमेश प्रताप सिंह ने बताया कि अनीता पिछले दो साल से अवसादग्रस्त थीं और उनका इलाज चल रहा था. मौके से पुलिस को मानसिक उपचार की दवाएं, आईएएस अफसर की लाइसेंसी पिस्टल और एक खोखा बरामद हुआ है. पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. पुलिस के मुताबिक अनीता ने दो बजकर 22 मिनट पर अपने पति को व्हाट्सएप मैसेज भेजा था. जिसमें उन्होंने लिखा था, सॉरी फॉर आल. यह मैसेज उन्होंने क्यों और किस संदर्भ में भेजा इसकी भी जांच की जा रही है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

लखनऊ: IAS पर पत्नी की हत्या की FIR दर्ज, SUDA निदेशक के पद पर हैं तैनात

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 2:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...