Home /News /uttar-pradesh /

UP कैडर के इस IAS ने कश्मीर की डल झील पर ऐसा क्या किया जो Video हो गया Viral

UP कैडर के इस IAS ने कश्मीर की डल झील पर ऐसा क्या किया जो Video हो गया Viral

डल झील पर गजल गाते आईएएस हरिओम.

डल झील पर गजल गाते आईएएस हरिओम.

Lucknow: यूपी (UP) कैडर के एक IAS अफसर (IAS Officer) की इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब धूम मची है. वैसे तो वो पहले से अपने हुनर के कारण जाने-जाते रहे हैं लेकिन, एकाएक उनकी चर्चा बढ़ गयी है. उनकी पुरानी गज़ल फिर से चर्चा में इसलिए आ गई है क्योंकि इसे उन्होंने एक बेहद खास जगह पर आवाज दी है. कश्मीर (Kashmir) की डल झील (Dal Lake) में शिकारा पर बैठकर हरिओम (Hariom) ने इसे दोबारा गाया है. उन्होंने इसे 27 नवम्बर को ट्विटर पर अपलोड किया और 1 दिसम्बर तक एक लाख लोग इसे सुन चुके हैं.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. यूपी कैडर के एक IAS अफसर की इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब धूम मची है. वैसे तो वो पहले से अपने हुनर के कारण जाने-जाते रहे हैं लेकिन, एकाएक उनकी चर्चा बढ़ गयी है. इसकी बड़ी वजह है उनका कश्मीर कनेक्शन.
इस चर्चित IAS अफसर का नाम है डॉ. हरिओम. इन्हें गज़ल गायिकी और कविताओं का शौक है. बड़े -बड़े मंचों से ये अपनी गज़ल गायिकी के हुनर का प्रदर्शन करते रहे हैं. इनके कई एलबम भी आ चुके हैं लेकिन, इन दिनों हरिओम की एक पुरानी गज़ल फिर से लोगों के दिलों में मिठास घोल रही है. उनकी पुरानी गज़ल फिर से चर्चा में इसलिए आ गई है क्योंकि इसे उन्होंने एक बेहद खास जगह पर आवाज दी है. कश्मीर की डल झील में शिकारा पर बैठकर हरिओम ने इसे दोबारा गाया है. उन्होंने इसे 27 नवम्बर को ट्विटर पर अपलोड किया और 1 दिसम्बर तक एक लाख लोग इसे सुन चुके हैं. गज़ल है “मैं तेरे प्यार का मारा हुआ हूं, सिकन्दर हूं मगर हारा हुआ हूं. “

रोशनी के पंख…
ट्विटर के अलावा फेसबुक और यू ट्यूब पर भी बड़ी संख्या में लोगों ने इसे पसंद किया है. बता दें कि डॉ. हरिओम की ये गज़ल “रोशनी के पंख” एल्बम की है, जिसे उन्होंने 6 साल पहले 2015 में रिलीज किया था. अब एक बार फिर से हरिओम की मखमली आवाज से इस गज़ल को नया मुकाम मिला है. इससे पहले 31 अक्टूबर को उन्होंने डल झील के किनारे से ही एक गज़ल को फिल्माकर ट्विटर पर अपलोड किया था. उसके बोल हैं – “सर्द हवा है भीनी-भीनी, धूप फ़िज़ा में छायी है”. इसे भी ट्विटर पर 75 हजार लोगों ने सुना है.

बस यूं ही कर लिया था रिकॉर्ड
न्यूज़ 18 से बातचीत में डॉ. हरिओम ने बताया कि डल झील में की गई इस रिकॉर्डिंग के पीछे कोई प्लानिंग नहीं थी. मेरे ही मोबाइल कैमरे से मेरे साथी ने इसे रिकॉर्ड किया था. हम गुलमर्ग लिटरेरी फेस्टिवल में अक्टूबर में गए थे. क्लोजिंग सेरेमनी की शाम मेरा कल्चरल प्रोग्राम था. वहां भी मैंने ये गज़ल गाई थी. लौटते वक्त हम डल झील चले गए. झील में तैराकी के समय इसे रिकॉर्ड कर लिया गया. अब इसे बहुत पसंद किया जा रहा है.

गौरतलब है कि डॉ. हरिओम यूपी कैडर के 1997 बैच के IAS अफसर हैं. वे 11 जिलों में डीएम रह चुके हैं. इन दिनों सामान्य प्रशासन विभाग में सचिव के पद पर तैनात हैं. डॉ हरिओम IAS की परीक्षा में (UPSC) हिन्दी माध्यम से ऑल इण्डिया टॉपर रहे हैं.

डॉ हरिओम के अभी तक 6 एल्बम और दो-तीन दर्ज़न एकल गीत रिलीज़ हो चुके हैं. 7 किताबें जिसमें से 4 कविता-ग़ज़ल संग्रह, 2 कहानी संग्रह और एक ‘कैलाश मानसरोवर यात्रा’ पर सफ़रनामा छप चुका है. इसी साल मार्च में प्रकाशित इस सफरनामे को भी काफी चर्चा मिल चुकी है.

Tags: Famous gazal, Kashmir, Lucknow news, Social media, Viral video

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर