लाइव टीवी

IIM लखनऊ के स्टूडेंट्स 'भगवान राम' से सीखेंगे मैनेजमेंट के गुर

News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 11:51 AM IST
IIM लखनऊ के स्टूडेंट्स 'भगवान राम' से सीखेंगे मैनेजमेंट के गुर
IIM लखनऊ के स्टूडेंट्स 'भगवान राम' से सीखेंगे मैनेजमेंट के गुर (फाइल फोटोः

इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रियों ने इसी IIM लखनऊ में 3 दिन मैनेजमेंट के गुर सीखे थे. ये क्लास 8, 15 और 22 सितम्बर को हुई थी. इसमें मुख्यमंत्री, मंत्रियों के साथ ही अधिकारी भी शामिल हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 11:51 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. अयोध्या विवाद पर फैसले की घडी के बीच भारतीय प्रबंधन संस्थान आईआईएम लखनऊ (IIM Lucknow) के वार्षिक जलसे का थीम 'रामायण' पर रखा गया है. इस दौरान भगवान राम को लेकर क्विज और प्रदर्शनी भी लगेगी. स्टूडेंट्स भगवान राम के जीवन से मैनेजमेंट का गुर सीखते भी नजर आएंगे. 15 नवम्बर से 17 नवंबर के बीच यह कार्यक्रम आयोजित होगा. हालांकि, छात्र इस आयोजन को इससे अलग बताते हैैं. उनका कहना है कि हर साल आईआईएम के वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम मेनफेस्ट होता है.

रामायण का होगा भव्य मंचन

संस्थान के वार्षिक सांस्कृतिक समारोह मेनफेस्ट में पहली बार रामायण का भव्य मंचन होगा. हर पात्र में छात्र ही दिखेंगे, जिसके लिए युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है. समारोह में देशभर के विभिन्न आईआईएम संस्थानों के साथ ही अन्य शैक्षिक संस्थान के छात्र भी शिरकत करेंगे. ये आयोजन प्रदेश के संस्कृति विभाग और अयोध्या शोध संस्थान के सहयोग से होंगे.

ये कोई धार्मिक या आध्यात्मिक इवेंट नहीं- IIM

हालांकि IIM लखनऊ के पीआर प्रोफेसर विकास श्रीवास्तव का साफ़ कहना है की ये कोई धार्मिक या आध्यात्मिक इवेंट नहीं है. IIM स्टूडेंट्स हर क्षेत्र में मैनेजमेंट के पहलू को देखते हैं. उन्होंने कहा कि अयोध्या शोध संस्थान के सहयोग रामायण पर भी थिएटर कम्पटीशन हो रहा है. इसमें भी सिर्फ मैनेजमेंट पहलू देखे जायेंगे. बता दें कि IIM लखनऊ के इस फेस्ट में देश भर के IIM समेत अन्य संस्थानों के हज़ारों छात्र छात्राएं हिस्सा लेते हैं. वहीं राजनेताओं से लेकर बॉलीवुड की हस्तियां, उद्योगपति, मैनेजर, एंटरप्रेन्योर इसमें आते हैं.

IIM में CM योगी और उनके मंत्रियों ने ली थी क्लास

इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रियों ने इसी IIM लखनऊ में 3 दिन मैनेजमेंट के गुर सीखे थे. ये क्लास 8, 15 और 22 सितम्बर को हुई थी. इसमें मुख्यमंत्री, मंत्रियों के साथ ही अधिकारी भी शामिल हुए थे.
Loading...

विवादित जमीन रामलला विराजमान को दी गई

बता दें कि अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला शनिवार को आ चुका है. सीजेआई रंजन गोगोई ने फैसला पढ़ा. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में विवादित जमीन रामलला विराजमन को देने की बात कही. वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन अयोध्या में कहीं भी दी जाए. सीजेआई गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने 40 दिन की सुनवाई के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था.

ये भी पढ़ें:

Ayodhya Verdict: विवादित जमीन रामलला विराजमान को दी गई, मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाया जाए- CJI

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 11:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...