इस मामले की छानबीन के लिए यूपी में ताबड़तोड़ छापे मार रही है CBI

खनन घोटाले को लेकर प्रदेश में हो रही यह सबसे बडी कार्यवाई है, जिसमें अब तक पांच IAS आरोपी बनाये जा चुके हैं.

Narender Kumar | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 7:06 PM IST
इस मामले की छानबीन के लिए यूपी में ताबड़तोड़ छापे मार रही है CBI
अवैध खनन को लेकर सीबीआई की जद में और भी अधिकारी आ सकते हैं. (फाइल फोटो)
Narender Kumar | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 7:06 PM IST
उत्‍तर प्रदेश में इस समय पूर्व सपा सरकार में हुए खनन घोटाले को लेकर सीबीआई की कार्रवाई से दर्जनों आईएएस अधिकारियों में हडकम्प मंचा हुआ है. हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई प्रदेश के सात जिलों में हुए अवैध खनन की जांच कर रही है. जबकि 2017 से शुरू हुई जांच में अधिकारियों के खिलाफ मिले साक्ष्यों और दस्तावेजों को खगालने के बाद सीबीआई जनवरी 2019 से छापे मारी कर रही है. बुधवार को सीबीआई ने खनन घोटाले को लेकर बड़ी छापेमारी की, जिसमें सपा सरकार में फतेहपुर के जिलाधिकारी रहे अभय सिंह और देवरिया में जिलाधिकारी रहे विवेक शामिल हैं.

अब एक ये एक्‍शन ले चुकी है सीबीआई
सीबीआई अब तक पांच आईएएस के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा चुकी है, जिसमें हमीरपुर की जिलाधिकारी रही बी.चन्द्रकला, आईएएस जिवेशनन्दन, पूर्व विशेष भूतत्व एंव खनिकर्म आईएएस संतोष कुमार, आईएएस विवेक कुमार और आईएएस अभय सिंह शामिल हैं. जबकि इस मामले में सीबीआई पूर्व खनिज डायरेक्टर गुरूदीप सिंह से पुछताछ कर चुकी है, जिनके समय में दर्जनों अवैध खनन पट्टों को जिला प्रशासन ने चालू करने की अनुमति प्रदान की थी.

हाईकोर्ट के आदेश के बाद...

खनन घोटाले को लेकर प्रदेश में हो रही यह सबसे बडी कार्यवाई है, जिसमें अब तक पांच IAS आरोपी बनाये जा चुके हैं और तीन जिलों दिये गये अवैध खनन पट्टों को लेकर आरोपी बनाय गये है. जबकि हाईकोर्ट इलाहाबाद ने 28 जुलाई 2016 को जो आदेश दिया था उसमें सहारनपुर, शामली, कौशाम्बी और सिद्धार्थनगर भी शामिल है. सीबीआई ने इन चार जिलों में भी कई चरणों में जिलों का दौरा कर दस्तावेज और साक्ष्य जुटा चुकी है, जिसके चलते इन चार जिलों में सपा सरकार में तैनात रहे जिलाधिकारियों में भी खौफ का महौल है.

आखिर सीबीआई जिस तरह से छापेमारी कर रही है उसे देखते हुए यह कहा जा सकता है कि जल्द ही छापेमारी और मुकदमे की जद में कुछ और तत्कालीन जिलाधिकारी भी आएंगे.

ये भी पढ़ें-यूपी विधानसभा उपचुनाव: अखिलेश यादव का फरमान, SP से टिकट चाहिए तो करना होगा ये काम
Loading...

BJP MLA की बेटी ने इस मंदिर में की थी शादी, मैरिज सर्टिफिकेट को महंत ने बताया फर्जी
First published: July 11, 2019, 5:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...