खनन घोटाला: पूर्व IAS सत्येंद्र सिंह के 9 ठिकानों पर सीबीआई के छापे, जानिए मिली कितनी अकूत संपत्ति

पूर्व आईएएस सत्येंद्र सिंह के ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी

पूर्व आईएएस सत्येंद्र सिंह के ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी

UP Mining Scam: तत्कालीन सपा सरकार के चहेते अधिकारी रहे सतेंद्र सिंह पर आरोप हैं कि कौशांबी में डीएम रहते हुए उन्होंने शासन के निर्देशों की अनदेखी करते हुए अपने चहेतों को बिना टेंडर की शर्तों का अनुपालन किए हुए खनिज खनन का करोड़ों रुपये का ठेका दे दिया

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 10:48 AM IST
  • Share this:

लखनऊ. करोड़ों के खनन घोटाले (Mining Scam) से जुड़े मामले में सीबीआई (CBI) ने कौशांबी (Kaushambi) के तत्कालीन जिलाधिकारी व पूर्व आईएएस सत्येंद्र सिंह (Former IAS Satyendra Singh) और उनके करीबी रिश्तेदारों के लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद और दिल्ली में नौ ठिकानों पर मंगलवार को छापेमारी की. इस दौरान सीबीआई ने 10 लाख नकद, 51 लाख रुपये के फिक्स डिपाजिट समेत करोड़ों की अकूत संपत्ति बरामद की है.

तत्कालीन सपा सरकार के चहेते अधिकारी रहे सतेंद्र सिंह पर आरोप हैं कि कौशांबी में डीएम रहते हुए उन्होंने शासन के निर्देशों की अनदेखी करते हुए अपने चहेतों को बिना टेंडर की शर्तों का अनुपालन किए हुए खनिज खनन का करोड़ों रुपये का ठेका दे दिया. मामले में उनके अलावा नौ अन्य खनन व्यापारियों के घर भी छापे मारे गए हैं.

गौरतलब है कि यूपी के खनन घोटाले में हाईकोर्ट ने वर्ष 2016 में सीबीआई को जांच करने के आदेश दिए थे. इस मामले में सीबीआई प्रारंभिक छानबीन कर रही थी और सबूत जुटाने के बाद सीबीआई ने छापे की यह कार्रवाई की. जांच में पता चला कि तत्कालीन डीएम कौशांबी के पद पर रहते हुए सत्येंद्र सिंह ने वर्ष 2012-14 के बीच कुछ चहेतों को खनन का ठेका दिया। उन्होंने शासन के नियमों के खिलाफ दो नए ठेके अलग-अलग जारी किए. इसी के साथ नौ पट्टों का नवीनीकरण अपने खास लोगों के पक्ष में कर दिया।

पूर्व आईएएस समेत 10 पर केस दर्ज 
सीबीआई ने प्रारंभिक जांच करने के बाद पूर्व आईएएस सत्येंद्र सिंह समेत 10 खनन व्यापारियों पर भी केस दर्ज किया। इसमें मुख्य रूप से सत्येंद्र सिंह, कौशांबी के नेपाली निषाद, नरनारायण मिश्रा,रमाकांत द्विवेदी, खेमराज सिंह, मुन्नी लाल, शिव प्रकाश सिंह, राम अभिलाष, योगेंद्र सिंह और प्रयागराज निवासी राम प्रताप सिंह को नामजद कर एफआईआर दर्ज की है. सत्येंद्र सिंह के खिलाफ पद के दुरुपयोग, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और अमानत में खयानत का मुकदमा दर्ज किया गया है.

छापे में अकूत संपत्ति का खुलासा 

सीबीआई ने छापे में अचल संपत्ति से जुड़े 44 दस्तावेज बरामद किए हैं. सीबीआई इनकी कीमत का आकलन कर रही है। सीबीआई के सूत्रों का दावा है कि इनकी बाजार में कीमत 50 करोड़ रुपये के आसपास होगी। सीबीआई को छापे में 36 बैंक खातों की जानकारी मिली है, वहीं उनके घर से 10 लाख रुपये नकद मिले हैं. सीबीआई को उनके छह बैंक लॉकरों की जानकारी मिली। बैंक लॉकर की छानबीन में सीबीआई को 2.11 करोड़ रुपये कीमत के सोने के जेवर व अन्य जेवरात बरामद हुए हैं. साथ ही लॉकर से सीबीआई ने एक लाख रुपये की पुरानी करेंसी भी बरामद की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज