Independence Day 2020: UP के 23 पुलिस अफसरों को राष्ट्रपति का वीरता पदक, कुल 645 पुलिसकर्मी होंगे सम्मानित
Lucknow News in Hindi

Independence Day 2020: UP के 23 पुलिस अफसरों को राष्ट्रपति का वीरता पदक, कुल 645 पुलिसकर्मी होंगे सम्मानित
(बाएं से) एसपी बाराबंकी डॉ अरविंद चतुर्वेदी, गृह विभाग में सचिव एसके भगत और आईजी भर्ती बोर्ड विजय भूषण.

उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh) के चर्चित 4 प्रमुख एनकाउंटर को अंजाम देने वाली पुलिस टीम को इस बार वीरता पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 6:32 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर यूपी पुलिस के 23 अधिकारियों को वीरता के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक (Gallantry Award) से सम्मानित किया जाएगा. इनमें डीआईजी पुलिस भर्ती बोर्ड विजय भूषण ऐसे पुलिस अफसर हैं, जिन्हें सबसे ज्यादा पांचवीं बार वीरता पदक मिल रहा है. स्वतंत्रता दिवस पर यूपी प्रदेश पुलिस के कुल 645 पुलिस अधिकारियों व कर्मियों को राष्ट्रपति के पदक से सम्मानित किया जाएगा. इनमें 23 को वीरता पदक, 6 पुलिसकर्मियों को उत्कृष्ट सेवा और 73 पुलिसकर्मियों को दीर्घकालीन सेवा के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक से सम्मानित किया जाएगा.

इसके अलावा राज्य सरकार की ओर से 43 पुलिसकर्मियों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिह्न, 200 पुलिसकर्मियों को सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न और 230 पुलिस अधिकारियों व कर्मियों को डीजीपी का प्लेटिनम, गोल्ड व सिल्वर प्रशंसा चिह्न प्रदान किया जाएगा.

वीरता पदक



एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार
एडीजी-112 असीम अरुण

एसपी बाराबंकी डॉ अरविंद चतुर्वेदी

सचिव गृह एसके भगत

एसएसपी मेरठ अजय कुमार साहनी

एसएसपी मुजफ्फरनगर अभिषेक यादव

एएसपी सिटी मुजफ्फरनगर सतपाल

एटीएस में तैनात रहे एएसपी राजेश साहनी (मरणोपरांत)

सिपाही एकांत यादव (मरणोपरांत)

5 मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पदक

डीजी ईओडब्ल्यू डॉ. आरपी सिंह समेत 5 पुलिस अधिकारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक से सम्मानित किया जाएगा. इनमें एडीजी लखनऊ जोन एसएन साबत, अलीगढ़ के इंस्पेक्टर लोकेश कुमार, डीएसपी डीके शाही और डीएसपी पुलिस उपाधीक्षक डॉ अर्चना सिंह के नाम शामिल हैं. वहीं बिजलीकर्मियों के बहुचर्चित पीएफ घोटाले समेत अन्य आर्थिक अपराध के बड़े मामलों की प्रभावी जांच के लिए डीजी ईओडब्ल्यू डॉ आरपी सिंह को इस पदक के लिए चुना गया है.

13 कारागार कर्मियों को राष्ट्रपति का पदक

यूपी के जेल कर्मियों को इस बार सबसे ज्यादा राष्ट्रपति के 13 मेडल मिले हैं. डीजी जेल आनन्द कुमार के अनुसार इनमें 3 जेलकर्मियों को विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति का पदक और 10 कर्मियों को दीर्घ व सराहनीय सेवाओं के लिए राष्ट्रपति का पदक प्रदान किया गया है.

विशिष्ट सेवाओं के लिए पदक

डीआइजी संजीव त्रिपाठी

हेड जेल वार्डर अनिल कुमार बाजपेई

एआइजी वीके जैन (मरणोपरांत)

दीर्घ व सराहनीय सेवाओं के लिए राष्ट्रपति का पदक

डीआइजी बीआर वर्मा

जेलर संजीव कुमार सिंह

डिप्टी जेलर श्रीचंद्र शर्मा

मुख्य बंदी रक्षक शिवाकांत ओझा

गीता रानी

अख्तर आबिद खान

अनिल कुमार बाजपेई

शिव कुमार शर्मा

संयोगिता यादव

बंदी रक्षक सुभाष शर्मा

4 प्रमुख एनकाउंटर में शामिल टीम को सम्मान

आतंकी सैफुल्लाह एनकाउंटर- लखनऊ (7 मार्च 2017)

तत्कालीन आईजी एटीएस असीम अरुण

एएसपी राजेश साहनी (मरणोपरांत)

कमांडो विकास यादव

कमांडो महेंद्र पाल

कमांडो फहीम मियां

कमांडो अतहर अहमद

कमांडो अविनाश कुमार

फिरदौस एनकाउंटर- मुंबई (अप्रैल 2006)

तत्कालीन एसएसपी एसटीएफ एसके भगत

एएसपी विजय भूषण

पुलिस उपाधीक्षक डॉ अरविंद चतुर्वेदी (दूसरा गैलेंट्री)

उपनिरीक्षक धनंजय मिश्रा

रोहित सांडू एनकाउंटर- मुजफ्फरनगर (16 जुलाई 2019)

तत्कालीन एडीजी जोन मेरठ प्रशांत कुमार

एसएसपी मुजफ्फरनगर अभिषेक कुमार यादव

एसपी सिटी सतपाल

उपनिरीक्षक प्रवेश कुमार

अजय कुमार

सिपाही विनीत कुमार कपासिया

सुजीत बुढवा एनकाउंटर- आजमगढ़

तत्कालीन एसएसपी आजमगढ़ अजय कुमार साहनी

एएसपी नरेंद्र प्रताप सिंह (दूसरा वीरता पदक)

सिपाही अवधेश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज