UP: पंचायत चुनाव से पहले 'अवैध संबंधों' पर रहेगी खुफिया नजर, जानिए वजह

पंचायत चुनाव से पहले 'अवैध संबंधों' पर रहेगी खुफिया नजर (सांकेतिक तस्वीर)
पंचायत चुनाव से पहले 'अवैध संबंधों' पर रहेगी खुफिया नजर (सांकेतिक तस्वीर)

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों (Panchayat Election) को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं. ऐसी स्थिति में पुलिस से लेकर इंटेलिजेंस एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 7:39 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के एडीजी (इंटेलिजेंस) एसबी शिरोडकर द्वारा एक पत्र जारी किया गया है. उन्होंने पंचायत चुनावों (Panchayat Election) के मद्देजनर 11 पॉइंट्स पर जानकारी जुटाने का आदेश दिया है. इन बिंदुओं में एक पॉइंट अवैध संबंध (Illicit Relation) भी है. सूत्रों के मुताबिक, एलआईयू और इंटेलिजेंस को हर गांव में जारी अवैध संबंधों के बारे में जानकारी जुटानी होगी. वर्तमान में गांव में क्या स्थिति है, पुलिस ने कोई कार्रवाई की है या नहीं, विवाद...आदि पर जानकारी जुटानी होगी. कई बार इस तरह के मामले बड़ा रूप धारण कर लेते हैं और बवाल की वजह बन जाते हैं. पंचायत चुनाव में ऐसा कुछ न हो, इसलिए पहले से इस तरह की जानकारियां जुटाई जा रही हैं.

इसके अलावा गांवों में उन लोगों को भी सूचीबद्ध किया जा रहा है जो अचानक धनाढ्य हो गए. जातीय विवाद, जमीन से जुड़े विवाद, धर्मस्थल विवाद भी जुटाए जा रहे हैं. पंचायत चुनाव में क्या विवाद हो सकता है, इसका पूर्वानुमान लगाते हुए पहले से सूचना मांगी गई है. सूबे में कभी भी पंचायत चुनाव का ऐलान किया जा सकता है, जिसको देखते हुए इंटेलिजेंस विभाग ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है. कई बार ऐसा देखने को मिला है कि अवैध संबंधों के चलते गांव में तनाव हुआ है. कभी-कभी इसकी वजह से जातीय तनाव और धर्म के आधार पर भी तनाव की सूचना मिलती रहती है.





ये भी पढे़ं- गाजियाबाद: मां को याद कर रो रही थी बच्ची, गुस्से में पिता ने गला दबाकर कर दी हत्या
इंटेलिजेंस का मानना है कि ऐसे मामले बाद में तूल पकड़ लेते हैं और विवाद का कारण बनते हैं. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं. ऐसी स्थिति में पुलिस से लेकर इंटेलिजेंस एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं. पंचायत चुनावों के ठीक एक साल बाद साल 2022 में यूपी में विधानसभा चुनाव होंगे इसलिए इनकी महत्ता और बढ़ जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज