Home /News /uttar-pradesh /

यूपी और उत्तराखंड के बीच 57 रूटों पर प्राइवेट बसें चलाने पर हुआ समझौता

यूपी और उत्तराखंड के बीच 57 रूटों पर प्राइवेट बसें चलाने पर हुआ समझौता

योगी आदित्यनाथ व त्रिवेंद्र सिंह रावत.

योगी आदित्यनाथ व त्रिवेंद्र सिंह रावत.

इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश सरकारें संकुचित सोच के कारण जनता को सुविधाओं से वंचित रखती हैं लेकिन अब दोनों राज्यों व केंद्र में एक ही पार्टी की सरकार होने से वर्षों से लंबित मामलों का निपटारा हो रहा है.

    यूपी और उत्तराखंड सरकार के बीच सोमवार को अंतर्राज्यीय बस सेवाओं को सुगम एवं सुदृढ़ बनाने के लिए समझौता हो गया. इसके तहत अब यूपी से उत्तराखंड और उत्तराखंड से यूपी आने वाले यात्रियों को बेहतर बस सर्विस मिल सकेगी. इस समझौते के तहत दोनों राज्यों के 57 रूटों पर अब प्राइवेट बसें चलेंगी. लखनऊ के कालिदास मार्ग पर स्थित मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित कार्यक्रम में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ व उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पारस्परिक समझौते पर हस्ताक्षर किए.

    इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश सरकारें संकुचित सोच के कारण जनता को सुविधाओं से वंचित रखती हैं लेकिन अब दोनों राज्यों व केंद्र में एक ही पार्टी की सरकार होने से वर्षों से लंबित मामलों का निपटारा हो रहा है. सीएम योगी ने प्रयागराज कुंभ के लिए चलने वाली 51 बसों को हरी झंडी दिखाई. ये शटल बसें अभी अपने परिक्षेत्र में ही रहेंगी पर कुंभ के प्रारम्भ होते ही प्रयागराज पहुंचकर शटल सेवा के रूप में कार्य करने लगेंगी.

    बसों को दिखाई हरी झंडी


    कार्यक्रम में यूपी के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, उत्तराखंड के परिवहन मंत्री यशपाल आर्य, परिवहन निगम के अध्यक्ष संजीव सरन समेत कई अन्य मंत्री व अधिकारी मौजूद रहे.

    ये भी पढ़ें:

    बरेली: महिला ने एसओ समेत 3 पुलिसकर्मियों पर लगाया रेप का आरोप

    VIDEO: लखीमपुर खीरी में गाजे-बाजे के साथ निकली 'सांड' की अंतिम यात्रा

    CM योगी आदित्यनाथ बोले- जब तक कश्मीर में हिंदू राजा थे, हिदू और सिख सुरक्षित थे

     

    Tags: BJP, Uttar pradesh news, Uttarakhand news, Yogi adityanath

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर