अनामिका शुक्ला मामले में जांच तेज, अब तक इन 9 जिलों में मिलीं फर्जी टीचर, 12 लाख से ज्यादा का उड़ाया मानदेय
Amethi News in Hindi

अनामिका शुक्ला मामले में जांच तेज, अब तक इन 9 जिलों में मिलीं फर्जी टीचर, 12 लाख से ज्यादा का उड़ाया मानदेय
यूपी के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ सतीश द्विवेदी (File Photo)

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में अनामिका शुक्ला (Anamika Shukla) नाम से फर्जीवाड़े को लेकर बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने कहा है कि अभी तक जांच में सामने आया कि इस प्रमाणपत्र पर 9 स्कूलों में टीचरें नौकरी कर रही थीं. इसमें 12 लाख 24 हजार 700 रुपए मानदेय के रूप में निकले हैं.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी के शिक्षा विभाग में इन दिनों अनामिका शुक्ला (Anamika Shukla) नाम पर हड़कंप मचा हुआ है. खबर आई कि प्रदेश के 25 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में एक ही महिला अनामिका शुक्ला नौकरी कर रही है और साल भर में उसने करीब 1 करोड़ रुपए सरकार से मानदेय के रूप में हासिल कर लिए हैं. इसके बाद जांच शुरू हुई और इस बीच गोंडा में असली अनामिका शुक्ला सामने आई. उसने गोंडा बीएसए को शपथपत्र देकर कहा कि वह किसी सरकारी नौकरी में है ही नहीं, पर उसके ही डॉक्यूमेंट्स के आधार पर फर्जीवाड़ा किया गया है. उधर मामले में शासन की तरफ से जांच बिठा दी गई है.

बेटी के जन्म के कारण काउंसिलिंग में नहीं गई

असली अनामिका शुक्ला ने बताया कि तीन साल पहले उसने कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय में साइंस टीचर की नौकरी के लिए आवेदन जरूर किया था लेकिन बेटी को जन्म देने के कारण काउंसिलिंग में हिस्सा नहीं लिया था.



9 स्कूलों में मिलीं 'अनामिका', 12 लाख से ज्यादा का लिया मानदेय
उधर कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में अनामिका शुक्ला नाम से फर्जीवाड़े को लेकर बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने कहा है कि अभी तक जांच में सामने आया कि इस प्रमाणपत्र पर 9 स्कूलों में टीचरें नौकरी कर रही थीं. इसमें 12 लाख 24 हजार 700 रुपए मानदेय के रूप में निकले हैं. सभी जिलों में शिक्षकों के प्रमाणपत्रों का सत्यापन हो रहा है. दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी.

पूर्वी से लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक फर्जीवाड़ा

जानकारी के अनुसार अनामिका शुक्ला नाम से फर्जी कागजातों के आधार पर बागपत, वाराणसी, कासगंज, अलीगढ़, अमेठी, रायबरेली, प्रयागराज, सहारनपुर और अम्बेडकर नगर में काम कर रही थीं. वहीं असली अनामिका शुक्ला बताती हैं कि जुलाई 2017 में नौकरी के लिए आवेदन किया था. उन्होंने कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय में साइंस टीचर के लिए सुल्तानपुर, जौनपुर, बस्ती, मिर्जापुर और लखनऊ में आवेदन किया था.

इनपुट: प्रशांत किशोर पांडेय

ये भी पढ़ें:

Exclusive: अनामिका की कहानी- जिसे दुनिया ने कहा करोड़पति, वह दर्द बयां करते...

प्रियंका गांधी बोलीं- अनामिका शुक्ला के घर जाकर माफी मांगे यूपी सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading