Home /News /uttar-pradesh /

विधानसभा चुनावों में तगड़ी जीत के बाद यूपी में सपा और बसपा की मजबूरी बनी कांग्रेस!

विधानसभा चुनावों में तगड़ी जीत के बाद यूपी में सपा और बसपा की मजबूरी बनी कांग्रेस!

राहुल गांधी. (फाइल फोटो)

राहुल गांधी. (फाइल फोटो)

दिलचस्प ये है कि ये वही बसपा है, जिसकी राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने मध्यप्रदेश चुनाव के दौरान ऐलान किया था कि बसपा अब कांग्रेस से कभी गठबंधन नहीं करेगी. वहीं अखिलेश यादव भी कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर ज्यादा उत्साहित नजर नहीं आते थे.

अधिक पढ़ें ...
    पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणामों ने 2019 में लोकसभा की चुनावी बिसात पर असर छोड़ना शुरू कर दिया है. परिणाम आने के चंद घंटों के अंदर ही उत्तर प्रदेश की सियासत में घटनाक्रम तेजी से बदलता दिख रहा है. इसी क्रम में पहले बहुजन समाज पार्टी, फिर समाजवादी पार्टी ने खुद आगे बढ़कर मध्यप्रदेश में कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है.

    मायावती के बाद अखिलेश यादव ने भी मध्यप्रदेश में कांग्रेस को दिया समर्थन

    दिलचस्प ये है कि ये वही बसपा है, जिसकी राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने मध्यप्रदेश चुनाव के दौरान ऐलान किया था कि बसपा अब कांग्रेस से कभी गठबंधन नहीं करेगी. वहीं अखिलेश यादव भी कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर ज्यादा उत्साहित नजर नहीं आते थे. परिणाम से एक दिन पहले ही दिल्ली में हुई विपक्षी दलों के महागठबंधन को लेकर बैठक में भी समाजवादी पार्टी और बसपा की दूरी खासी चर्चा में रही थी. वो अलग बात है कि इस बैठक में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव जरूर शामिल हुए थे.

    वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ कलहंस कलहंस कहते हैं कि सपा और बसपा जिस गठबंधन को लगभग बना चुकी हैं, उसमें कांग्रेस को शामिल करने पर असमंजस में थीं. अब उन्हें अपनी रणनीति बदलनी पड़ेगी. इन चुनाव नतीजों से सपा और बसपा को अब कांग्रेस को भी तवज्जो देनी पड़ेगी. खासकर सीटों को लेकर सपा और बसपा को रणनीति बदलनी होगी. इसके अलावा ये चुनाव नतीजे बीजेपी के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन में भी कांग्रेस की स्वीकार्यता बढ़ेगी.

    सिर्फ बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस को है बसपा का समर्थन: मायावती

    दरअसल राज्यों में चुनाव के दौरान कांग्रेस से गठबंधन न होने पर सपा और बसपा ने अपनी तल्खी खुलेआम जाहिर की थी. यही नहीं इस दौरान उन्होंने दबाव की राजनीति करते हुए कांग्रेस को यूपी अलग-थलग रखने के संकेत दिए थे. दोनों ने ही इन राज्यों में अलग-अलग चुनाव लड़ा. लेकिन कांग्रेस के शानदार प्रदर्शन ने यह संकेत दे दिए हैं कि अब यूपी में उसकी उपेक्षा नहीं की जा सकती. अभी तक सपा व बसपा यूपी के गठबंधन में कांग्रेस को 4 से 5 सीट देने की ही मंशा जता रहे थे लेकिन परिस्थितियां अब बदल गई हैं.

    ये भी पढ़ें: 

    OPINION:कांग्रेस के शानदार प्रदर्शन से यूपी में नए सिरे से तैयार होगी महागठबंधन की जमीन!

    जानिए राज्यों के चुनाव में कांग्रेस की जीत का यूपी की सियासत पर क्या होगा असर?  

    अखिलेश यादव का इंटरव्यू: गठबंधन में हो सकती है कांग्रेस की भूमिका

    शिवपाल की जनाक्रोश रैली में मुलायम ने कुछ इस तरह लगा दिया 'चरखा दांव'

    शिवपाल की रैली में बोलीं अपर्णा यादव- जन सैलाब प्रमाण है कि शेर को चोट नहीं देनी चाहिए

    Tags: Lucknow news, Mayawati, News 18 Hindi Special, Rahul gandhi, Samajwadi party, Up news in hindi, Uttar Pradesh Politics, Uttarpradesh news, लखनऊ

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर