Home /News /uttar-pradesh /

शाही इमाम बुखारी पर लगे सपा सरकार से सौदेबाजी के आरोप, सीएम से हुई थी गुपचुप मीटिंग

शाही इमाम बुखारी पर लगे सपा सरकार से सौदेबाजी के आरोप, सीएम से हुई थी गुपचुप मीटिंग

इस मुलाकात के बाद से ही बुखारी पर एक बार फिर मुस्लिम हितों को ताक पर रखकर सौदेबाजी करने का आरोप लगा है.

इस मुलाकात के बाद से ही बुखारी पर एक बार फिर मुस्लिम हितों को ताक पर रखकर सौदेबाजी करने का आरोप लगा है.

इस मुलाकात के बाद से ही बुखारी पर एक बार फिर मुस्लिम हितों को ताक पर रखकर सौदेबाजी करने का आरोप लगा है.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना सैय्यद अहमद बुखारी ने 16 फ़रवरी को गुपचुप तरीके से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की. बंद गाड़ी में पहुंचे बुखारी अपने साथ दामाद एमएलसी उमर को भी साथ लाए थे. इस मुलाकात के बाद से ही बुखारी पर एक बार फिर मुस्लिम हितों को ताक पर रखकर सौदेबाजी करने का आरोप लगा है.

सैय्यद बिलाल नूरानी, स्टेट प्रेसिडेंट, मुस्लिम मजलिस-ए-अमल को भी इस बात की जानकारी नहीं दी गई थी. जिसके बाद बुखारी की पार्टी मुस्लिम मजलिस-ए-अमल में बगावत के सुर तेज हो गए हैं.

आपको बता दें चुनाव से पहले बुखारी पर सत्तारूढ़ पार्टी से सौदेबाजी करने का आरोप लगता रहा है. एक बार फिर बुखारी पर ऐसे ही आरोप लग रहे हैं.

गौरतलब है कि बुखारी ने शनिवार को राजधानी लखनऊ में 100 लोगों की कांफ्रेंस बुलाई है जिसमें मुस्लिम समुदाय के प्रति समाजवादी पार्टी सरकार के चार वर्षों की समीक्षा की जाएगी. इस बीच सूत्रों के मुताबिक 1 घंटे चली इस मुलाकात के बाद बुखारी साहब का दिल समाजवादी पार्टी के लिए बदल गया है.

इस मुलाकात के बाद स्टेट प्रेसिडेंट नूरानी ने कहा कि अगर बुखारी ने मुस्लिम हितों की अनदेखी करते हुए कोई भी समझौता किया तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे.

गौरतलब है कि लोक सभा चुनाव से पहले भी बुखारी ने कांग्रेस पार्टी को खुला समर्थन दिया था.

Tags: Lucknow news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर