गायत्री प्रसाद प्रजापति को नहीं मिली राहत, बढ़ी न्यायिक हिरासत

चित्रकूट की एक महिला से रेप और उसकी नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ के मामले में उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार में मंत्री रह चुके गायत्री प्रसाद प्रजापति की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं.


Updated: April 17, 2018, 6:11 PM IST
गायत्री प्रसाद प्रजापति को नहीं मिली राहत, बढ़ी न्यायिक हिरासत
सपा के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की फाइल फोटो

Updated: April 17, 2018, 6:11 PM IST
चित्रकूट की एक महिला से रेप और उसकी नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ के मामले में उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार में मंत्री रह चुके गायत्री प्रसाद प्रजापति की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. लखनऊ में मंगलवार को पॉक्सो एक्ट के विशेष न्यायाधीश विकास नागर की कोर्ट ने गायत्री प्रजापति समेत सात आरोपियों की न्यायिक हिरासत 27 अप्रैल तक बढ़ाते हुए जेल भेज दिया. आज कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के तहत पुलिस पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को लेकर कोर्ट पहुंची.

बता दें, चित्रकूट की महिला की शिकायत पर सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट लिखने का आदेश दिया था. इसके बाद गौतमपल्ली पुलिस ने 18 फरवरी 2017 को पूर्व मंत्री प्रजापति समेत अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की थी. पुलिस इस मामले में चार्जशीट दायर कर चुकी है.

गौरतलब है कि गायत्री प्रजापति पर आय से अधिक संपत्ति रखने, अवैध कब्जे, अवैध खनन सहित कई संगीन आरोप लग चुके हैं. एक बार तो अखिलेश ने प्रजापति को खनन घोटाले में कथित संलिप्ता के कारण उन्हें खनन मंत्री के पद से हटा दिया था. लेकिन बाद में पिता मुलायम सिंह यादव के हस्तक्षेप के बाद उन्हें मंत्रिमंडल में वापस ले लिया गया.

पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ एक कार्यक्रम के दौरान अखिलेश ने मंच से कहा भी था कि उन्होंने मुलायम के कहने पर गायत्री को वापस कैबिनेट में लिया. अखिलेश का जब पिता मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल यादव के साथ पार्टी का अंदरूनी सत्ता संघर्ष चल रहा था उस समय प्रजापति भी मुद्दा बनते रहे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर