Home /News /uttar-pradesh /

UP: मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर काम ठप कर धरने पर बैठे, OPD सेवाओं पर पड़ा असर

UP: मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर काम ठप कर धरने पर बैठे, OPD सेवाओं पर पड़ा असर

UP: कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर काम बंद कर इमरजेंसी के बाहर धरने पर बैठ गए है.

UP: कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर काम बंद कर इमरजेंसी के बाहर धरने पर बैठ गए है.

Junior Doctors Strike in UP: दरअसल जूनियर डॉक्टर्स की मांग नीट पीजी काउंसलिंग को लेकर है. नीट पीजी की परीक्षा जनवरी, 2021 में और काउंसिलिंग मई, 2021 में होनी थी. जून में जूनियर डॉक्टर प्रथम वर्ष में प्रवेश लेते लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. पहले कोरोना और फिर सुप्रीम कोर्ट में ओबीसी और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के आरक्षण का मामला पहुंचने से नीट पीजी 2021 की काउंसिलिंग अब तक नहीं हुई. अब सुप्रीम कोर्ट में 6 जनवरी, 2022 को सुनवाई होनी है. इसमें भी निर्णय नहीं होता है तो काउंसिलिंग मुश्किल में पड़ जाएगी. इसके विरोध में देशभर के मेडिकल कालेजों के जूनियर डॉक्टरों ने विरोध शुरू कर दिया है.

अधिक पढ़ें ...

    लखनऊ. यूपी के लखनऊ, आगरा, कानपुर, मेरठ, वाराणसी और गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर (Junior Doctors Strike) नीट पीजी काउंसलिंग (NEET PG Counselling) कराने की मांग को लेकर शनिवार से हड़ताल पर है. जूनियर डॉक्टर्स ओपीडी का पूरी तरह से बहिष्कार करेंगे. हालांकि वार्ड में जो मरीज भर्ती हैं उनका इलाज होता रहेगा. इसके साथ ही इमरजेंसी में आए मरीजों का भी उपचार किया जाएगा. उधर हड़ताल को देखते हुए मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने भी पूरी तैयारी की है. मेडिकल प्रशासन ने प्रत्येक ओपीडी में एक-एक अतिरिक्त डॉक्टरों की ड्यूटी लगा दी है.

    कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में आज जूनियर डॉक्टर काम बंद कर इमरजेंसी के बाहर धरने पर बैठ गए है. नीट काउंसिलिंग में देरी होने की वजह से आक्रोशित जूनियर डॉक्टर्स ने जमकर नारेबाजी की. वहीं सीनियर डाक्टर्स व्यवस्था बनाने में जुटे हैं. इसी क्रम में आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर ओपीडी का बहिष्कार किया.

    ओपीडी में एक-एक अतिरिक्त डॉक्टर की ड्यूटी
    इधर जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल पर एसएन मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. प्रशांत गुप्ता ने कहा कि ओपीडी में पहुंचने वाले मरीजों को परेशानी न हो इसके लिए अतिरिक्त इंतजाम किए गए हैं. ओपीडी में एक-एक अतिरिक्त डॉक्टर की ड्यूटी लगाई गई है. मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल एसएस गुप्ता ने कहा कि ओपीडीसी लेकर इमरजेंसी तक मरीजों को कोई दिक्कत ना हो इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा. उधर, वाराणसी में नीट पीजी काउंसलिंग में देर होने पर आईएमएस बीएचयू के जूनियर डॉक्टर हड़ताल कर रहे हैं. जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी, वार्ड, ट्रॉमा सेंटर छोड़ आईएमएस में धरने पर बैठ गए हैं.

    नीट पीजी 2021 की नहीं हुई काउंसिलिंग
    दरअसल जूनियर डॉक्टर्स की मांग नीट पीजी काउंसलिंग को लेकर है. नीट पीजी की परीक्षा जनवरी, 2021 में और काउंसिलिंग मई, 2021 में होनी थी. जून में जूनियर डॉक्टर प्रथम वर्ष में प्रवेश लेते लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. पहले कोरोना और फिर सुप्रीम कोर्ट में ओबीसी और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के आरक्षण का मामला पहुंचने से नीट पीजी 2021 की काउंसिलिंग अब तक नहीं हुई. अब सुप्रीम कोर्ट में 6 जनवरी, 2022 को सुनवाई होनी है. इसमें भी निर्णय नहीं होता है तो काउंसिलिंग मुश्किल में पड़ जाएगी. इसके विरोध में देशभर के मेडिकल कालेजों के जूनियर डॉक्टरों ने विरोध शुरू कर दिया है.

    Tags: CM Yogi, Doctors strike, Junior Doctors Association, Junior Doctors Strike, Lucknow news, UP police, Yogi government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर