Home /News /uttar-pradesh /

kalyan singh super speciality cancer institute and hospital faces doctors shortage know full story nodark

Lucknow: डॉक्टर-संसाधनों की कमी से जूझ रहा 900 करोड़ में बना कल्याण सिंह कैंसर संस्थान, सिर्फ 75 मरीज भर्ती

Kalyan Singh super speciality cancer institute and Hospital Lucknow: लखनऊ में 900 करोड़ की लागत से बनाया गया कल्याण सिंह सुपर स्पेशलिटी कैंसर संस्थान चिकित्सकों और संसाधनों की कमी से जूझ रहा है. इस अस्‍पताल में सिर्फ 75 बेड पर मरीज भर्ती किए जा रहे हैं. जानें पूरा मामला.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

कल्याण सिंह सुपर स्पेशलिटी कैंसर संस्थान 900 करोड़ की लागत से बना है.
अस्‍पताल में 1250 बेड पर मरीजों को भर्ती करने का लक्ष्‍य है, लेकिन अभी 75 चालू हैं.

अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ के सुल्तानपुर रोड स्थित 900 करोड़ की लागत से बनाया गया कल्याण सिंह सुपर स्पेशलिटी कैंसर संस्थान चिकित्सकोंऔर संसाधनों की कमी से जूझ रहा है. आलम यह है कि सिर्फ 25 फैकल्टी 75 बेड़ों पर मरीजों की भर्ती कर रहे हैं. प्रतिदिन यहां पर दूर-दराज से 150 मरीज जांच व इलाज के लिए आते हैं. सभी कैंसर रोगी होते हैं. इन्हें कई बार चिकित्सक, संसाधनों और पैरामेडिकल स्टाफ की कमी कारण परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

इस कैंसर संस्थान का उद्घाटन करीब एक साल पहले किया गया था. हैरानी की बात यह है कि यहां पर 24 ऑपरेशन थिएटर हैं, लेकिन चल सिर्फ दो ही रहे हैं, जिसमें मरीजों का ऑपरेशन हो रहा है. जबकि एक भी आईसीयू और रेडियोलॉजिस्ट नहीं है.

जानें क्‍यों है डॉक्‍टरों की कमी!

कल्याण सिंह सुपर स्पेशलिटी कैंसर संस्थान में चिकित्सकों की कमी की सबसे बड़ी वजह यह है कि यहां सातवें वेतन आयोग के मुताबिक चिकित्सकों को वेतन नहीं मिल रहा है. जबकि किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में सातवें वेतन आयोग के मुताबिक चिकित्सकों को वेतन मिल रहा है. यही वजह है कि इतना बड़ा कैंसर संस्थान होने के बावजूद एक भी डॉक्टर कैंसर संस्थान में नौकरी नहीं करना चाहता. यहां पर जांच और इलाज के लिए अपने परिजनों को लेकर के आए जुबैर और अमित गोयल ने भी स्टाफ की कमी और संसाधनों की कमी होने की बात कही.

मरीजों को होती है दिक्कत

कल्याण सिंह कैंसर संस्थान सीजी सिटी में बना हुआ है. करीब 80 एकड़ में यह पूरा कैंसर संस्थान फैला हुआ है. इसे 900 करोड़ की लागत से बनाया गया था. यहां की ओपीडी में रोजाना 150 मरीज जांच और इलाज के लिए आते हैं. लगातार यहां पर मरीजों का दबाव बढ़ रहा है. हाल ही में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने यहां का निरीक्षण कर आदेश दिया था कि यहां 200 बेड पर मरीजों की भर्ती करें. कैंसर संस्थान के सीएमएस डॉ. अनुपम का कहना है कि चिकित्सकों और संसाधनों की कमी के कारण सिर्फ 75 बेड पर अभी भर्ती हो रही है. एक नया ब्लॉक खोला जा रहा है जिसके खुलने से करीब 734 बेड पर भर्ती की जा सकेगी. इसके अलावा जो लक्ष्य है 1250 बेड पर मरीजों की भर्ती करने का उसमें लंबा वक्त लग सकता है.

कैंसर संस्थान में पैरामेडिकल स्टाफ से लेकर चिकित्सकों और टेक्नीशियन,रेडियोलॉजिस्ट की भारी कमी है. एक भी रेडियोलॉजिस्ट यहां तैनात नहीं है. 24 ऑपरेशन थिएटर हैं जिसमें से सिर्फ दो ही चल रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि यहां पर एक भी ऑनकोलॉजिस्ट नहीं है.

शासन को भेजा है प्रस्ताव

संस्थान के सीएमएस डॉ. अनुपम का कहना है कि इस बार 2022 देश के लिए इस कैंसर संस्थान को 20 करोड़ का बजट मिला है. इसमें जितने संसाधन पूरे हो सकेंगे उसको किया जाएगा. इसके अलावा शासन को प्रस्ताव बनाकर भेज कर यह अवगत कराया गया है कि यह कैंसर संस्थान भारी संसाधनों और चिकित्सकों कमी से जूझ रहा है जिससे आने वाले वक्त में मरीजों को दिक्कत हो सकती है, ऐसे में सरकार शासन मदद करें.

Kalyan Singh super speciality cancer institute

Tags: Cancer, Kalyan Singh, Lucknow city, Lucknow news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर