Analysis: क्या राम मंदिर निर्माण में अहम भूमिका निभा सकते हैं कल्याण सिंह...

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 8:50 AM IST
Analysis: क्या राम मंदिर निर्माण में अहम भूमिका निभा सकते हैं कल्याण सिंह...
Analysis: अयोध्या आंदोलन और उग्र हिन्दुत्व की पहचान रहे कल्याण सिंह की BJP में वापसी

आपको बता दें कि अयोध्या आंदोलन(Ayodhya Andolan) ने बीजेपी (BJP) के कई नेताओं को देश की राजनीति में एक पहचान दी, लेकिन राम मंदिर (Ram Mandir) के लिए सबसे बड़ी कुर्बानी नेता कल्याण सिंह (Kalyan singh) ने दी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2019, 8:50 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. राजस्थान के पूर्व राज्यपाल और अयोध्या आंदोलन (Ayodhya Andolan) की पहचान रहे कल्याण सिंह (Kalyan singh) सोमवार को लखनऊ (Lucknow) पहुंच रहे है. जहां यूपी बीजेपी (UP BJP) के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, उन्हें पार्टी कार्यालय लाएंगे और फिर से उन्हें भाजपा की सदस्यता दिलाएंगे. दरअसल पिछले 5 सालों से कल्याण सिंह यूपी की सक्रिय सियासत से बाहर चल रहे थे. लंबे समय तक पार्टी के प्रमुख रणनीतिकार और अपनी चालों से विपक्ष को छकाते रहे कल्याण ने आगे की भूमिका के लिए खुद को तैयार करना शुरू कर दिया है. वहीं अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण और 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कल्याण सिंह एक बड़ी भूमिका में नजर आ सकते हैं.

पद की नहीं लालसा
लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रतन मणि लाल बताते हैं कि कल्याण सिंह को किसी पद की लालसा नहीं है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मुद्दा चूंकि सुप्रीम कोर्ट में है ऐसे में फैसला जो भी हो, कल्याण सिंह का कट्टरपंथी हिंदुत्ववादी और उग्र चेहरा एक बड़ी भूमिका निर्वाह कर सकता है. रतन मणि लाल के मुताबिक कल्याण सिंह लोधी जाति से आते हैं, जो बीजेपी के लिए हमेशा एक बड़ा वोट बैंक साबित हुआ है. ओबीसी (OBC) जाति में सिर्फ लोधी हर चुनावों में बीजेपी का साथ देती आ रही है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की कल्याण सिंह से मुलाकात
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की कल्याण सिंह से मुलाकात


राम मंदिर निर्माण में निभा सकते हैं अहम भूमिका
आपको बता दें कि अयोध्या आंदोलन ने बीजेपी के कई नेताओं को देश की राजनीति में एक पहचान दी, लेकिन राम मंदिर के लिए सबसे बड़ी कुर्बानी नेता कल्याण सिंह ने दी थी. लाल ने बताया कि राम मंदिर आंदोलन में कल्याण सिंह बीजेपी के इकलौते नेता थे, जिन्होंने अयोध्या में विवादित ढांचे के विध्वंस के बाद अपनी सत्ता को बलि पर चढ़ा दिया था. जिसके बाद उत्तर प्रदेश में उनकी सरकार चली गई थी.  रतन मणि लाल ने बताया कि विवादित ढांचा गिरने में उनकी एक अहम भूमिका थी, वहीं आने वाले वक्त में बीजेपी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में उनको आगे कर सकती है.

होर्डिंग से पटा कल्याण सिंह का लखनऊ आवास
होर्डिंग से पटा कल्याण सिंह का लखनऊ आवास

Loading...

बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शुमार
कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हुआ था. वह संघ की गोद में पले बढ़े. बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शुमार किए जाते रहे और उत्तर प्रदेश में बीजेपी का चेहरा माने जाते थे. उनकी पहचान कट्टरपंथी हिंदुत्ववादी और प्रखर वक्ता की है. वह उत्तर प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री रहे.

ये भी पढ़ें:


 मुकदमों से घिरे आजम खान के बचाव में रामपुर कूच करेंगे अखिलेश यादव
मोहर्रम के दिन भंडारे को लेकर अड़े राजा भैया के पिता हुए नजरबंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 8:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...