कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात से गिरफ्तार दोनों आरोपी पुलिस रिमांड पर, बरेली के नावेद से होगा सामना
Lucknow News in Hindi

कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात से गिरफ्तार दोनों आरोपी पुलिस रिमांड पर, बरेली के नावेद से होगा सामना
इसके साथ ही पुलिस ने बरेली से मौलाना और एक वकील को भी गिरफ्तार कर लिया है. (कमलेश का फाइल फोटो)

गुजरात (Gujrat) से ट्रांजिट रिमांड पर दोनों आरोपियों को लेकर गुरुवार को लखनऊ (Lucknow) पहुंची पुलिस (Police), कोर्ट ने 27 अक्टूबर सुबह 10 बजे तक 48 घंटे की रिमांड पर भेजा.

  • Share this:
लखनऊ. हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में गिरफ्तार शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद पुलिस कस्टडी रिमांड पर लखनऊ लाए गए हैं. गुरुवार शाम को ही गुजरात से ट्रांजिट रिमांड पर लेकर दोनों आरोपियों को लखनऊ पहुंची पुलिस ने कोर्ट में पेश किया. जहां से दोनों को कोर्ट ने 48 घंटे के पुलिस रिमांड पर भेज दिया. दोनों 25 अक्टूबर सुबह 10 बजे से 27 अक्टूबर सुबह 10 बजे तक रिमांड पर रहेंगे.

बता दें कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में बरेली (Bareilly) के दरगाह आला हजरत (Dargah Aala Hazrat) के मौलाना सैय्यद कैफी अली की गिरफ्तारी के बाद लॉ स्टूडेंट और पेशे से वकील मोहम्मद नावेद (Mohammad Naved) को यूपी पुलिस (UP Police) और एटीएस ने लंबी पूछताछ के बाद शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया.

हत्यारोपियों और नावेद के बयान होंगे क्रॉस चेक
जानकारी के अनुसार इन दोनों आरोपियों से बरेली से गिरफ्तार नावेद का सामना कराया जाएगा. इस दौरान हत्यारोपियों और नावेद के बयानों को क्रॉस चेक कराया जाएगा. नावेद पर हत्यारोपियों को नेपाल पहुंचाने का आरोप है. उस पर नागपुर से आसिम की गिरफ्तारी के बाद इन आरोपियों को नेपाल से शाहजहांपुर लाने का आरोप है.
नावेद और मौलाना पर पनाह देने का है आरोप


नावेद और मौलाना दोनों पर ही हत्यारोपियों शेख अशफाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन अहमद को पनाह देने व इलाज करवाने में मदद का आरोप है. इससे पहले पुलिस ने गुरुवार शाम को मौलाना कैफी अली को गिरफ्तार किया था. कहा जा रहा है कि इन दोनों के अलावा भी दो अन्य की जानकारी भी पुलिस को मिली है, जिन्होंने दोनों आरोपियों की मदद की थी.

आरोप है कि कमलेश तिवारी की हत्या के बाद फरार हुए दोनों आरोपियों को मौलाना कैफ़ी की ओर से मदद मुहैया कराई गई. मदद के तहत कैफ़ी ने दोनों को शरण भी दी. नावेद पर आरोप है कि उसने मौलाना कैफ़ी के निर्देश पर दोनों को बरेली में रुकवाया उसके बाद नेपाल बॉर्डर तक पहुंचने में मदद की थी.

बरेली में गुजारी थी पहली रात
पुलिस के मुताबिक के मुताबिक 18 अक्टूबर को हत्या के बाद दोनों आरोपियों ने पहली रात बरेली में ही गुजारी. इसमें मौलाना कैफ़ी और नावेद ने उनकी मदद की. इसके बाद दूसरे दिन नेपाल तक पहुंचाने में दोनों की मदद की.

इनपुट: ऋषभ मणि त्रिपाठी

ये भी पढ़ें: कमलेश तिवारी हत्याकांड: मौलाना के बाद एक वकील भी गिरफ्तार, आरोपियों की मदद का आरोप

यूपी पुलिस का कुम्हारों को दीवाली का तोहफा, हर थाने में जलेंगे मिट्टी के दिये
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading