लाइव टीवी

कमलेश तिवारी हत्याकांड: फरार आरोपियों के नेपाल भागने का मकसद तलाशने में जुटीं जांच एजेंसियां

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 22, 2019, 5:58 PM IST
कमलेश तिवारी हत्याकांड: फरार आरोपियों के नेपाल भागने का मकसद तलाशने में जुटीं जांच एजेंसियां
कमलेश तिवारी हत्याकांड के फरार आरोपी अब तक पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं.

दरअसल फरार आरोपियों के नेपाल पहुंचने की प्लानिंग ही एजेंसियों के कान खड़े कर रही है. क्योंकि नेपाल से ही पड़ोसी देश और दुनिया के बड़े हिस्से में जाने के रास्ते खुलते हैं. देश में मौजूद इस मॉड्यूल के मददगार तो पुलिस की गिरफ्त में आ रहे हैं लेकिन नेपाल में ये किसके भरोसे जा रहे थे? इसका पता लगाया जा रहा है.

  • Share this:
लखनऊ. कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) मामले में फरार दोनों आरोपियों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है. इस बीच हत्यारों की बदल रही लोकेशन से उनकी मंशा और पुलिस की जांच देश के एक बड़े हिस्से से नेपाल (Nepal) की तरफ भी जा रही है. नेपाल पहुंचने की प्लानिंग ही एजेंसियों के कान खड़े कर रही है क्योंकि नेपाल से ही पड़ोसी देश और दुनिया के बड़े हिस्से में जाने के रास्ते खुलते हैं. देश में मौजूद इस मॉड्यूल के मददगार तो पुलिस की गिरफ्त में आ रहे हैं लेकिन नेपाल में ये किसके भरोसे जा रहे थे इसका पता लगाया जा रहा है.

इस जांच में यूपी पुलिस, एसटीएफ, एटीएस के साथ गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, हरियाणा की एटीएस भी लग गई हैं. ख़ुद डीजीपी भी कह चुके हैं कि वारदात में किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. किसी स्थापित आतंकी या जेहादी समूह ने अभी तक इस वारदात की जिम्मेदारी भले न ली हो लेकिन डीजीपी भी कहते हैं कि आतंकियों के सेल्फ मोटिवेटेड और स्लीपिंग मॉड्यूल्स भी होते हैं.

lko Kamlesh tiwari1
फरार आरोपियों की डिटेल


17 अक्टूबर- उद्योग नगरी एक्सप्रेस से कानपुर में उतरे.

17 की रात करीब 11 बजे लखनऊ के होटल खालसा इन में कमरा लिया.
18 अक्टूबर को वारदात को अंजाम देकर डेढ़ बजे होटल वापस आए और कैसरबाग बस अड्डे से बरेली निकले.
18 अक्टूबर की रात बरेली में इलाज कराया और एक मौलाना की मदद से बरेली में रुके. एक अस्पताल में ड्रेसिंग कराने की सीसीटीवी फुटेज पुलिस के पास है.
Loading...

20 अक्टूबर को दोनों फुटेज लखीमपुर खीरी में नेपाल बार्डर के पास मिली.
बॉर्डर पार न कर पाने पर शाहजहांपुर लौटे.
21 अक्टूबर को शाहजहांपुर में मिली सीसीटीवी फुटेज.

उधर महाराजगंज पुलिस ने भारत-नेपाल के सोनौली ठूठीबारी सीमा पर अलर्ट घोषित कर दिया है. वहीं बस स्टेशन, होटल और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सख्त निगरानी की जा रही है. इसके अलावा पुरस्कार घोषित अपराधियों के पोस्टर भी लगाए जा रहे हैं. पूरे बार्डर पर सघन जांच पड़ताल की जा रही है.

बता दें अभी तक पुलिस इस मामले में 10 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाल चुकी है, जिसमें हत्यारोपियों को देखने का दावा किया जा रहा है. पुलिस सूत्रों का कहना है कि शाहजहांपुर या फिर बरेली में कहीं छिपे हैं. इस बीच एटीएस को जानकारी मिली है कि दोनों ने एक वकील से सरेंडर को लेकर भी बातचीत की थी.
वहीं वे नेपाल बॉर्डर पार करने की कोशिश में भी हैं. इसे लेकर यूपी से सटे सभी बॉर्डर पर सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

कमलेश तिवारी हत्याकांड: आरोपियों के नेपाल भागने की आशंका, सीमा पर अलर्ट
कमलेश तिवारी हत्याकांड: शहर-शहर भाग रहे कातिल करना चाहते हैं कोर्ट में सरेंडर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 5:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...