लाइव टीवी

कमलेश तिवारी के लिए 'सजा-ए-मौत' का ऐलान करने वाले आसिम अली ने लड़ा था नितिन गडकरी के खिलाफ चुनाव

Rishabh Mani | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 23, 2019, 8:51 AM IST
कमलेश तिवारी के लिए 'सजा-ए-मौत' का ऐलान करने वाले आसिम अली ने लड़ा था नितिन गडकरी के खिलाफ चुनाव
कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश रचने के आरोपी आसिम अली को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है.

25 अक्टूबर 2017 में सैय्यद आसिम अली (Syed Asim Ali) ने यूट्यूब पर अपना एक वीडियो डाला था, जिसमें कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) को मौत की सज़ा देने की बात कही थी.

  • Share this:
लखनऊ. कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में गिरफ्तार साजिशकर्ता सैय्यद आसिम अली (Syed Asim Ali) ने वर्ष 2019 का लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) बीजेपी (BJP) के नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) के खिलाफ लड़ा था. माइनॉरिटी डेमोक्रेटिक पार्टी के बैनर पर लड़े इस चुनाव में आसिम को छह हज़ार वोट मिले थे. उसने चुनाव आयोग में दाखिल अपने हलफनामे में दसवीं तक पढ़ाई करने और एक मुकदमे का ज़िक्र भी किया था. आसिम अली को महाराष्ट्र एटीएस ने नागपुर से गिरफ्तार किया है. उसे यूपी पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ लेकर आई है. पुलिस आज उसे कोर्ट में पेश कर कस्टडी रिमांड मांगेगी.

25 अक्टूबर 2017 में आसिम ने यूट्यूब पर अपना एक वीडियो डाला था, जिसमें कमलेश तिवारी को चुनौती देते हुए उसे मौत की सज़ा देने की बात कही थी. यह बयान भी अब पुलिस जांच का हिस्सा है. बताया जाता है कि आसिम अपने भड़काऊ बयानों के चलते महाराष्ट्र और गुजरात के मुस्लिम युवाओं में पैठ बनाने की कोशिश में लगा रहता है. अपने ऐसे बयानों और पार्टी के ज़रिए ही आसिम हत्यारोपियों के संपर्क में आया था. कमलेश की हत्या के लिए अशफ़ाक और मोइनुद्दीन को भड़काने का शक आसिम पर है.

हत्यारोपियों ने किया था आसिम को फोन

हत्यारोपियों ने कमलेश की हत्या को अंजाम देने के बाद आसिम को फोन किया था. सूत्रों के मुताबिक, आसिम ने ही आरोपियों को बरेली में एक मौलाना की मदद से रुकवाया था, जहां आरोपियों ने अपना इलाज भी करवाया था. आसिम ने ही आरोपियों को नेपाल निकलने की सलाह और मदद दी थी. फिलहाल आसिम को पुलिस ने कमलेश तिवारी की हत्या की साज़िश रचने के मामले में गिरफ्तार किया है. बुधवार को लखनऊ पुलिस आसिम की पुलिस कस्टडी रिमांड मांगेगी.

सुन्नी यूथ विंग का वाइस प्रेसिडेंट है आसिम

आसिम अली सुन्नी यूथ विंग का उपाध्‍यक्ष भी है. वह लगातार यूट्यूब और फेसबुक के जरिए मुस्लिम युवाओं को भड़काने का प्रयास कर रहा था. उसके कई भड़काऊ भाषण यूट्यूब पर हैं. बावजूद इसके वह सुरक्षा एजेंसियों के निगाहों में अब तक नहीं आया.

ये भी पढ़ें- 
Loading...

Kamlesh Tiwari ने हत्या से एक दिन पहले ट्विटर पर शेयर की थी 16 मंदिर-मस्जिदों के नाम वाली ये लिस्ट

कमलेश तिवारी ने मर्डर से एक दिन पहले राम मंदिर के लिए लिखी थी ये बड़ी बात

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 8:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...