कानपुर में रेमडेसिविर का नकली इंजेक्शन बेचने वाले पर NSA, हरियाणा का रहने वाला है आरोपी

पुलिस ने रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी में तीन लोगों को गिरफतार किया था जिसमें सचिन के अलावा दो दवा विक्रेता प्रशांत शुक्ला, संतोष सोनी भी शामिल थे. (सांकेतिक फोटो)

पुलिस ने रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी में तीन लोगों को गिरफतार किया था जिसमें सचिन के अलावा दो दवा विक्रेता प्रशांत शुक्ला, संतोष सोनी भी शामिल थे. (सांकेतिक फोटो)

Remdesivir Black Marketing: कोरोना के जीवन रक्षक रेमडेसिविर का नकली इंजेक्शन बेचने के आरोपी सचिन के पास से बरामद हुए थे टीके. एक माह पहले यूपी एसटीएफ ओर पुलिस ने रेमडेसिवर की कालाबाजारी में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था.

  • Share this:

कानपुर. रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remedicivir Injection) की कालाबाजारी के आरोप में एक माह पहले गिरफ्तार सचिन कुमार पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया गया है. कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण (Aseem Arun) ने बताया कि एक माह पहले रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के लिए गिरफ्तार किए गए हरियाणा के सचिन कुमार पर रासुका लगाया गया है. सचिन के पास से बरामद इंजेक्शन जांच के बाद नकली पाये गये थे. एक माह पहले उत्तर प्रदेश एसटीएफ ओर पुलिस ने रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी में तीन लोगों को गिरफतार किया था जिसमें सचिन के अलावा दो दवा विक्रेता प्रशांत शुक्ला, संतोष सोनी भी शामिल थे.

दरअसल, अप्रैल महीने में कोरोना वायरस का ग्राफ एकाएक बढ़ा था तो पूरे देश में रेमडेसिविर की कालाबाजारी होने लगी थी. तब पूरे देश में ऐसे दलालों को पुलिस पकड़ रही थी. वहीं, अप्रैल महीने लखनऊ में ऑक्सीजन से लेकर रेमडेसिविर इंजेक्शन तक के लिए मारामारी थी. तमाम सरकारी कोशिशों के बाद भी स्थितियां नियंत्रण में नहीं आ पा रही थी. इस बीच रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी भी शुरू हो गई थी. तब लखनऊ पुलिस ने इस कालाबाजारी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया था. पुलिस ने ठाकुरगंज स्थिति एरा मेडिकल कॉलेज के पास से रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के आरोप में 4 लोगों को गिरफ्तार किया था. इनमें दो डॉक्टर भी शामिल थे.

अन्य सदस्यों को भी जल्द ही दबोचा जाएगा

पुलिस ने इनके पास से 34 रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए थे. यही नहीं इनके पास से 4 लाख 69 हजार रुपये भी बरामद किए गए थे. दरअसल, पुलिस को ठाकुरगंज इलाके में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी की सूचना मिल रही थी. पुलिस ने 4 लोगों को दबोचा, जिनमें एक डॉ सम्राट पांडेय थे. वह गोंडा के रहने वाले हैं. वहीं, दूसरा डॉ. अतहर लखनऊ निवासी है. पुलिस ने इनके दो एजेंट उन्नाव के विपिन कुमार और तहजीब उल हसन को भी दबोचा था. पुलिस का मानना था कि राजधानी में कालाबाजारी करने वाला गिरोह सक्रिय है. इस गिरोह के अन्य सदस्यों को भी जल्द ही दबोचा जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज