दिल्ली बार्डर पर कंटीले तारों और कीलों से भड़कीं माया, बोलीं-किसानों की बजाय सीमा पर आतंकियों को ऐसे रोको

बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

Kisan Aandolan: मायावती ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा कि दिल्ली बॉर्डर के बजाये सरकार ऐसे इंतजाम अगर आतंकियों की घुसपैठ रोकने के लिए देश की सीमाओं पर करे, तो उचित होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 9:50 AM IST
  • Share this:

लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती ने किसान आंदोलन (Kisan Aandolan) को देखते हुए दिल्ली की सीमाओं पर पुलिस की सख्त बैरिकेडिंग को लेकर अपने गुस्से का इजहार करते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. मायावती ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा कि कंटीले तारों व कीलों की बैरिकेडिंग अनुचित है, अगर सरकार आतंकियों के लिए देश की सीमाओं पर ऐसी व्यवस्था करे तो उचित होगा. उन्होंने सरकार से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेकर आंदोलन खत्म करने की भी मांग की.

मायावती ने आज एक- के बाद एक दो ट्वीट किए. उन्होंने पहले ट्वीट में लिखा, " तीन कृषि कानूनों की वापसी की वाजिब मांग को लेकर खासकर दिल्ली की सीमाओं पर आन्दोलित किसानों के प्रति सरकारी रवैये के कारण संसद के बजट सत्र में भी जरूरी कामकाज व जनहित के खास मुद्दे पहले दिन से ही काफी प्रभावित हो रहे हैं. केन्द्र किसानों की मांग पूरी करके स्थिति सामान्य करे."

मायवती ने दूसरे ट्वीट में लिखा कि, "साथ ही, लाखों आन्दोलित किसान परिवारों में दहशत फैलाने के लिए दिल्ली की सीमाओं पर जो कंटीले तारों व कीलों आदि वाली जबर्दस्त बैरिकेडिंग की गई है वह उचित नहीं है. इनकी बजाए यदि आतंकियों आदि को रोकने हेतु ऐसी कार्रवाई देश की सीमाओं पर हो तो यह बेहतर होगा।"

विपक्ष ने सरकार पर बोला हमला
गौरतलब है कि 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस ने सख्ती बरतते हुए गाजीपुर, सिंधु और टिकरी बॉर्डर पर तीन स्तरीय बैरिकेडिंग व्यवस्था की है. जिसमें कंटीले तारों के साथ कीलों की पट्टी भी लगाई गई है. दिल्ली पुलिस की इस कार्रवाई पर कांग्रेस, शिवसेना समेत तमाम विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए निशाना साधा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज