जानिए अब Mob lynching, एसिड अटैक जैसे मामलों पर कितना मुआवजा देगी योगी सरकार

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2019, 4:04 PM IST
जानिए अब Mob lynching, एसिड अटैक जैसे मामलों पर कितना मुआवजा देगी योगी सरकार
योगी सरकार ने मॉब लिंचिंग और एसिड अटैक जैसे मामलों में मुआवजे की व्यवस्था में बदलाव किया है. (File Photo)

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की अध्यक्षता में हुई यूपी सरकार की कैबिनेट बैठक में भीड़ हिंसा (Mob Lynching) व एसिड अटैक पीड़ितों के लिए मुआवजे के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी गई है.

  • Share this:
लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की अध्यक्षता में हुई यूपी सरकार की कैबिनेट बैठक में भीड़ हिंसा (Mob Lynching) व एसिड अटैक पीड़ितों के लिए मुआवजे के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी गई है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के गाइडलाइन्स को लागू करते हुए योगी सरकार ने 14 श्रेणियों में मुआवजे का ऐलान किया है. इस प्रस्ताव के अनुसार राज्य पीड़ित क्षतिपूर्ति योजना के तहत अब शुरुआती जांच के बाद ही क्षतिपूर्ति राशि की 25 फीसद रकम अंतरिम राशि के तौर पर पीड़ित को दे दी जाएगी. बता दें अब तक किसी मामले की जांच पूरी होने के बाद पीड़ित को क्षतिपूर्ति राशि एक साथ दिये जाने की व्यवस्था थी.

राज्य सरकार के प्रवक्ता व मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार भीड़ की हिंहसा, दुष्कर्म, तेजाब फेंकने की घटना समेत अन्य अपराधों में अंतरिम राहत प्रदान देने की व्यवस्था कर दी गई है. उत्तर प्रदेश क्षतिपूर्ति योजना-2014 संशोधित-2016 में संशोधन कर भीड़ की हिंसा/हत्या के पीड़ित को अंतरिम राहत प्रदान किए जाने के लिए प्राविधान जोड़ा गया है.

शुरुआती जांच और डीएम की संस्तुति पर मिलेगी 25 फीसदी राशि

अब भीड़ की हिंसा समेत अन्य मामलों में शुरूआती जांच के बाद जिलाधिकारी की संस्तुति पर क्षतिपूर्ति राशि की 25 फीसद रकम अंतरिम राहत के तौर पर पीड़ित अथवा उसके परिवार को दी जा सकेगी. राज्य पीड़ित क्षतिपूर्ति योजना के तहत ऐसे पीड़ितों और उनके आश्रितों को जोड़ा गया है, जिन्हें किसी अपराध के कारण क्षति अथवा हानि हुई है और पुनर्वास की जरूरत है.

मॉब लिंचिंग में कमाने वाले सदस्य की मृत्यु पर मिलते हैं 2 लाख रुपये

बताया गया कि क्षतिपूर्ति योजना के तहत दुष्कर्म पीड़ित के लिए क्षतिपूर्ति की अधिकतम सीमा 2 लाख रुपये है, वहीं मानसिक संताप के कारण हुई हानि या क्षति के मामलों में 1 लाख रुपये का प्रावधान है. ज्वलनशील पदार्थ के हमले के मामले में 3 लाख रुपये, भीड़ की हिंसा में किसी परिवार के गैर कमाने वाले सदस्य की मृत्यु पर डेढ़ लाख रुपये और कमाने वाले सदस्य की मृत्यु पर 2 लाख रुपये और मानव तस्करी से पीड़ित को 2 लाख रुपये क्षतिपूर्ति की अधिकतम सीमा निर्धारित है.

क्षतिपूर्ति योजना के तहत मुआवजा
Loading...

- दुष्कर्म पीड़ित के लिए क्षतिपूर्ति की अधिकतम सीमा 2 लाख रुपये है.
- मानसिक संताप के कारण हुई हानि या क्षति के मामलों में 1 लाख रुपये
- ज्वलनशील पदार्थ के हमले के मामले में 3 लाख रुपये
- भीड़ की हिंसा में किसी परिवार के गैर कमाने वाले सदस्य की मृत्यु पर 1.5 लाख रुपये और कमाने वाले सदस्य की मृत्यु पर 2 लाख रुपये
- मानव तस्करी से पीड़ित को 2 लाख रुपये क्षतिपूर्ति की अधिकतम सीमा निर्धारित है.

ये भी पढ़ें:

मथुरा में बोले पीएम मोदी- गाय या ॐ सुनते ही कुछ लोगों के कान खड़े हो जाते हैं
अमेठी में जब अचानक पान की दुकान पर पहुंचीं स्मृति ईरानी, खरीदा…

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 4:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...