Home /News /uttar-pradesh /

krishak durghatna contempt petition allahabad high court issued warrant to dm sanjeev singh nodelsp

चंदौली: कृषक दुर्घटना मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने DM संजीव सिंह को जारी किया वारंट, जानें पूरा मामला

 इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डीएम संजीव सिंह को जारी किया वारंट,

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डीएम संजीव सिंह को जारी किया वारंट,

DM Sanjeev Singh Warrant: दुर्घटना में मौत के बाद किसान की पत्नी की ओर से दाखिल याचिका में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चंदौली डीएम संजीव सिंह पर सख्ती दिखाई है. न्यायाधीश सरल श्रीवास्तव ने सैयदराजा थाना क्षेत्र के बरंगा गांव की रहने वाली चिंता देवी की ओर से दाखिल अवमानना याचिका (सिविल) की सुनवाई करते हुए जिलाधिकारी चंदौली संजीव सिंह को वारंट जारी कर 29 अप्रैल को न्यायालय में पेश होने के निर्देश दिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

चंदौली. इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायाधीश सरल श्रीवास्तव (Judge Saral Srivastava) ने सैयदराजा थाना क्षेत्र के बरंगा गांव की रहने वाली चिंता देवी की ओर से दाखिल अवमानना याचिका (सिविल) की सुनवाई करते हुए जिलाधिकारी चंदौली संजीव सिंह को वारंट जारी किया है. यह जमानती वारंट है और न्याय‌धीश ने डीएम को 29 अप्रैल को न्यायालय के समक्ष उपस्थित होने का निर्देश दिया है.

मामला सैयदराजा थाना क्षेत्र के बरंगा गांव निवासी राजनाथ कुमार से जुड़ा है जो मार्च 2019 में नवही पुलिया के समीप सड़क हादसे में गंभीर रुप से घायल हो गये थे. उनके पुत्र सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि ट्रामा सेंटर में उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई. राजनाथ खेती किसानी से किसी प्रकार अपने परिवार का पेट पालते थे. इसके बाद उनकी पत्नी चिंता देवी की ओर से ‘मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना’ के तहत मुुआवजे के लिए आवेदन किया. उनके पुत्र ने बताया कि सभी कागजी कार्रवाई पूर्ण करने के बाद भी लखनऊ से आये अधिकारियों ने मुुआवजा के प्रार्थन पत्र को खारिज कर दिया.

डीएम ने प्रार्थना पत्र पर नहीं दिया था जवाब
इसके बाद चिंंता देवी ने अधिवक्ता निलेश कुमार मिश्रा जरिये हाईकोर्ट इलाहबाद में या‌चिका दा‌खिल की, जिसपर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के दो जजों की बेंच ने 23 सिंतबर 2021 को चिंता देवी को जिलाधिकारी की अध्यक्षता वाली कमेटी के समक्ष मुुआवजे से संबंधित प्रार्थना पत्र को प्रस्तुत करने को कहा. इसके साथ ही दो सदस्यीय बेंच ने‌ जिलाधिकारी को छह सप्ताह के भीतर मामले की सुनवाई करते हुए उसके निस्तारण का आदेश दिया.

हाईकोर्ट का डीएम को नोटिस- क्यों न अवमानना की कार्रवाई की जाए
अधिवक्ता की ओर से जिलाधिकारी चंदौली को 04 अक्टूबर 2021 को हाईकोर्ट के आदेश की प्रति के साथ प्रार्थन पत्र भेज दिया. निर्धारित समयावधि बीत जाने के बाद भी प्रार्थना पत्र पर कोई निर्णय नहीं आया. इससे आहत होकर चिंता देवी की ओर से अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में अवमानना याचिका(सिविल) दाखिल की. जिसपर सुनवाई करते हुए न्यायधीश सरल श्रीवास्तव ने 09 फरवरी 2022 को जिलाधिकारी को नोटिस जारी करते हुए पूछा कि आखिर उनके खिलाफ न्यायालय के अवमानना की कार्रवाई क्यों न की जाये. उन्हें सात अप्रैल को कोर्ट के समक्ष हाजिर होकर कारण बताने को कहा.

अवमानना या‌चिका में सात अप्रैल को जिलाधिकारी संजीव सिंह द्वारा कोर्ट के समक्ष हाजिर नहीं होने पर न्यायधीश ने संजीव सिंह के खिलाफ जमानतीय वारंट जारी करते हुए अब 29 अप्रैल को न्यायालय के समक्ष हाजिर होने को कहा है.

Tags: Allahabad high court, Chandauli News, Uttar pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर