Home /News /uttar-pradesh /

lakhimpur kheri case allahabad high court lucknow bench to hear ashish mishra bail plea today

लखीमपुर खीरी कांड: आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर लखनऊ बेंच में आज होगी सुनवाई

तिकुनिया कांड : आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर आज होगी सुनवाई (फाइल फोटो)

तिकुनिया कांड : आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर आज होगी सुनवाई (फाइल फोटो)

लखीमपुर खीरी हिंसा के मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत अर्जी पर हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में आज सुनवाई होगी. 3 अक्टूबर को तिकुनिया में हुई हिंसा का मुख्य आरोपी है आशीष मिश्रा. उसे 4 फरवरी को हाईकोर्ट की इलाहाबाद बेंच ने जमानत दी थी, मगर 18 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत को रद्द कर दिया था.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: लखीमपुर खीरी तिकुनिया हिंसा के मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा पुत्र के आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत अर्जी पर आज यानी 11 जुलाई को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सुनवाई होगी. पिछली सुनवाई में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने आरोपी आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत याचिका पर सुनवाई टाल दी थी.

दरअसल, समय नहीं होने के कारण मामले की सुनवाई शुक्रवार (8 जुलाई) को पूरी नहीं हो सकी. न्यायालय ने अगली सुनवाई के लिए 11 जुलाई की तिथि नियत की है. आज सवा दो बजे मामले की सुनवाई शुरू होगी. जमानत याचिका का विरोध कर रहे पक्ष ने कहा कि गवाह के बयान में यह बात सामने आ चुकी है कि घटना के वक्त आशीष मिश्रा मौजूद था व अपनी थार गाड़ी से फायरिंग कर रहा था।

जमानत का विरोध कर रहे पक्ष की ओर से दलील दी गई कि मामले के सह-अभियुक्त अंकित दास व अन्य की जमानत याचिकाएं न्यायालय द्वारा खारिज की जा चुकी हैं. गवाहों के बयानों को उद्धत करते हुए, यह भी दलील दी गई कि जिस टैक्सी से अंकित दास खीरी से निकला था, उस टैक्सी चालक ने भी बयान दिया है कि रास्ते में अंकित दास घटना के बारे में फोन पर बात कर रहा था, उक्त बातचीत से आशीष मिश्रा पर लगे आरोपों की पुष्टि होती है.

वहीं गवाह द्वारा अंकित दास के गनर लतीफ की बातचीत का भी उल्लेख किया गया. इसके पूर्व विरोधी पक्ष की ओर से यह भी दलील दी जा चुकी है कि मामले में जांच के बाद कुछ धाराएं बढा दी गई थीं, बढी हुई धाराओं में जमानत अर्जी बिना सत्र अदालत में दाखिल किए, अभियुक्त ने सीधा उच्‍च न्‍यायालय में वर्तमान याचिका दाखिल कर दी है.

उल्लेखनीय है कि पिछले साल तीन अक्टूबर को तिकुनिया क्षेत्र में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की अजय मिश्रा के पैतृक गांव की यात्रा के खिलाफ किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, तब चार आंदोलनकारी किसानों को कारों के काफिले से कथित तौर पर कुचल दिया गया था. बाद की हिंसा में दो भाजपा कार्यकर्ता, चालक और एक पत्रकार सहित चार अन्य मारे गए. आशीष मिश्रा को बाद में वहां हुई हिंसा में चार किसानों की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया था.

Tags: Lakhimpur Kheri, Lakhimpur Kheri case, Uttar pradesh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर