Home /News /uttar-pradesh /

lal bihari yadav of azamgarh will be the leader of opposition in the legislative council sanjay lathers term ends nodss

आजमगढ़ के लाल बिहारी यादव होंगे विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष, संजय लाठर का कार्यकाल खत्म

उत्तरप्रदेश में नेता प्रतिपक्ष संजय लाठर का कार्यकाल गुरुवार को खत्म हो रहा है. (फाइल फोटो)

उत्तरप्रदेश में नेता प्रतिपक्ष संजय लाठर का कार्यकाल गुरुवार को खत्म हो रहा है. (फाइल फोटो)

संजय लाठर का कार्यकाल 26 मई को खत्म होने जा रहा है. इसी के साथ अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लाल बिहारी यादव के नाम का प्रस्ताव विधान परिषद को भेजा.

लखनऊ. विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष रहे संजय लाठर का कार्यकाल खत्म होने के बाद अब आजमगढ़ के लाल बिहारी यादव होंगे नेता प्रतिपक्ष. इसके लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने विधान परिषद को प्रस्ताव भेज दिया है. उल्लेखनीय है कि लाल बिहारी वाराणसी शिक्षक क्षेत्र से एमएलसी हैं. जानकारी के अनुसार संजय लाठर का कार्यकाल 26 मई को खत्म हो रहा है. संजय लाठर के साथ ही गुरुवार को सपा के तीन और सदस्य रिटायर हो रहे हैं. वहीं 6 जुलाई को सपा के और 6 सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो जाएगा.

गौरतलब है कि संजय लाठर का कार्यकाल नेता प्रतिपक्ष के पद पर सबसे कम समय के लिए रहा. लाठर केवल 60 दिन के लिए ही नेता प्रतिपक्ष रहे. अहमद हसन के निधन के बाद सपा ने संजय लाठर को नेता प्रतिपक्ष बनाया था. उल्लेखनीय है कि संजय लाठर 23वें नेता विरोधी दल रहे हैं और अब तक यूपी के इतिहास में उनका कार्यकाल सबसे कम दिनों का रहा है. संजय लाठर के साथ जिन लोगों का कार्यकाल खत्म हो रहा है उनमें राजपाल कश्यप व अरविंद कुमार हैं.
वहीं 6 जुलाई को सपा के जगजीवन प्रसाद, कमलेश कुमार पाठक, रणविजय सिंह, बलराम यादव व राम सुंदर दास निषाद का भी कार्यकाल खत्म हो रहा है.

केवल पांच सदस्य रह जाएंगे
जुलाई में समाजवादी पार्टी के विधान परिषद में केवल पांच सदस्य रह जाएंगे. 100 सीटों वाली विधान परिषद में जुलाई की 6 तारीख के बाद नरेश चंद्र उत्तम, राजेंद्र चौधरी, आशुतोष सिन्हा, डॉ. मान सिंह यादव और लाल बिहारी यादव ही रहेंगे. वहीं विधानसभा कोटे की 13 और सीटें जल्द ही खाली हो रही हैं. इसके लिए चुनाव जून में होंगे.

बहुत लंबा सफर नहीं होगा लाल बिहारी का
विधान परिषद की एक सीट के लिए 31 विधायकों का मत जरूरी है. सपा और उसके सहयोगी दलों को मिला कर 125 विधायक हैं. ऐसे में सपा ज्यादा से ज्यादा चार सीटें ही कब्जा सकती है. लेकिन फिर भी उसके सदस्यों की संख्या 9 ही रहेगी और नेता प्रतिपक्ष के लिए कम से कम 10 सीटों की जरूरत होती है. ऐसे में 6 जुलाई के बाद नेता प्रतिपक्ष का पद भी सपा के पास नहीं रहेगा. तो ऐसे में लाल बिहारी का कार्यकाल भी 6 जुलाई को खत्म हो सकता है.

Tags: Lucknow news, Samajwadi party

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर