UP पुलिस का क्रूर चेहरा! थाने में 4 महिलाओं को बांधकर पीटा, आरोप पर पुलिस की ये है सफाई

डीएम-एसपी ने इस मामले में जांच का आदेश दिया है.
डीएम-एसपी ने इस मामले में जांच का आदेश दिया है.

महिलाओं का आरोप है कि गत 28 अक्टूबर को सुबह जब वे थाना पहुंचीं, तो पुलिस (Police) ने उन्हें खम्बे से बांधकर महिला पुलिसकर्मियों के द्वारा बेल्ट और पट्टे से पिटाई करवाई.

  • Share this:
ललितपुर. उत्तर प्रदेश के ललितपुर में पुलिस (Police) पर गंभीर आरोप लगे हैं. चार महिलाओं ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने उन्हें थाने में बुलाकर खम्बे से बांध दिया, फिर बेल्ट व पट्टे से बेरहमी से पिटाई की. महिलाओं के शरीर पर चोट के निशान पाये गये हैं. हालांकि पुलिस के अधिकारी ऐसी किसी घटना से इनकार किया है. पुलिस का कहना है कि जमीनी विवाद में महिलाएं मनगढ़ंत कहानी गढ़ी हैं. और शरीर पर जो चोटों के निशान हैं, वे आपसी मारपीट के हैं. फिर भी अपर पुलिस अधीक्षक ने एसडीएम और सीओ से मामले की जांच कराने का भरोसा दिलाया है.

गिरार थाना इलाके के हनुमतगढ़ गांव की रहने वाली कथित तौर पर पीड़ित महिलाओं ने बताया कि गांव के ही एक परिवार से उनका जमीन विवाद चल रहा है. 17 अक्टूबर को इस सिलसिले में महिलाएं केस दर्ज कराने के लिए थाने गई थीं, लेकिन पुलिस ने उनकी बात नहीं सुनी. इसके बाद महिलाएं एसडीएम और एसपी के पास भी शिकायत लेकर गईं. लेकिन वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई.

महिलाओं का आरोप 



महिलाओं के मुताबिक 27 अक्टूबर की रात 11:30 बजे कुछ पुलिसकर्मी उनके घर सादे लिवास में पहुंचे और थाने चलने की बात कही. जब महिलाओं ने रात्रि में चलने से मना किया, तो पुलिसकर्मी गाली-गलौज करते हुए मौके से चले गए. 28 अक्टूबर को सुबह जब महिलाएं थाना पहुंची तो पुलिस ने उन्हें खम्बे से बांधकर महिला पुलिसकर्मियों के द्वारा बेल्ट और पट्टे से पिटाई करवाई. पीड़िताओं के मुताबिक उनके शरीर पर पिटाई के जख्मों के निशान स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं.
पुलिस की सफाई 

हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि महिलाओं के शरीर पर जो चोटों के निशान हैं, वह आपसी मारपीट के हैं. इस मामले में पूर्व में भी कार्रवाई की गई, लेकिन अब जो आरोप लगाए गए है, वह बेहद गम्भीर है.

अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि डीएम और एसपी के निर्देश पर पूरे मामले की अलग सर्किल के एसडीएम और सीओ से जांच करायी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज