यूपी की इस जेल में आखिरी बार 29 साल पहले हुई थी फांसी, जानिए क्या था मामला
Ayodhya News in Hindi

यूपी की इस जेल में आखिरी बार 29 साल पहले हुई थी फांसी, जानिए क्या था मामला
फांसी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आज से 29 साल पहले यूपी में किसी गुनहगार को आखिरी बार फांसी दी गई थी. आगरा (Agra) की जिला जेल में बुलंदशहर के रहने वाले जुम्मन को 2 फरवरी 1991 को फांसी दी गई थी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
लखनऊ. निर्भया (Nirbhaya) के दोषियों को फांसी दे दी गई है. देश मे लंबे समय बाद फांसी (Hanging) की सज़ा हुई है. उधर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में आखिरी बार 29 साल पहले फांसी हुई थी. आगरा की जिला जेल में बुलंदशहर के रहने वाले जुम्मन को 2 फरवरी 1991 को फांसी दी गई थी. जुम्मन रोजी-रोटी की तलाश में बुलंदशहर से फिरोजाबाद आ गया था. वह फिरोज़ाबाद में रिक्शा चलाता था. उसने एक अबोध बच्ची का बलात्कार करने के बाद हत्या कर दी थी. उसकी दया याचिका को सुप्रीम कोर्ट और तत्कालीन राष्ट्रपति आर वेंकट रमण ने खारिज कर दिया था.

वैसे देश को आजादी मिलने के बाद से अभी तक यूपी में कुल 390 गुनहगारों को फांसी दी गई है. ये आंकड़ा पूरे देश में सबसे ज्यादा है. ज्यादातर राज्यों में दी गई फांसी का आंकड़ा सैकड़ों में नहीं बल्कि दहाई में ही है. यूपी और हरियाणा में ही ये आंकड़ा सैकड़ा में है. हरियाणा में अब तक 103 अपराधियों को फांसी दी गई है.

75 जेल हैं लेकिन सिर्फ 8 जेलों में है फांसी के इंतजाम
ये तथ्य भी अपने आप में अनोखा है. अमूमन ये माना जाता है कि सभी जेलों में फांसी की सज़ा दी जा सकती है लेकिन ऐसा नहीं है. यूपी के 75 जिलों में सिर्फ 8 ही ऐसी जेल हैं, जहां फांसी की सजा दी जा सकती है. ये जेल हैं- प्रयागराज नैनी सेंट्रल जेल, फैजाबाद, आगरा, गोण्डा, गोरखपुर, बरेली, फतेहपुर और मेरठ. इन्हीं जेलों में फांसी घर बनाये गए हैं. इनमें से मेरठ की जेल का फांसी घर ही दुरुस्त है.



सिर्फ मथुरा की जेल में महिलाओं को फांसी देने की व्यवस्था


पूरे यूपी में सिर्फ मथुरा की जेल ही ऐसी है, जहां किसी महिला गुनहगार को फांसी दी जा सकती है. अमरोहा की शबनम को सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा हो चुकी है लेकिन उसने इसे रद्द करने के लिए पुनर्विचार याचिका डाली है. इस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना बाकी है. यदि फांसी की सजा बरकरार रहती है और फांसी देने की नौबत आती है तो शबनम को मथुरा की जेल ही लाया जायेगा. शबनम ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर परिवार के 7 लोगों की हत्या कर दी थी.

ये भी पढ़ें:

Nirbhaya Case: 7 साल 3 महीने खिंची कानूनी लड़ाई के वो आखिरी 8.30 घंटे

Nirbhaya Case: फांसी के साथ ही होली के जश्न में डूबा निर्भया का गांव
First published: March 20, 2020, 8:55 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading