Home /News /uttar-pradesh /

लखनऊ में वकील की सरेआम पीट-पीटकर हत्या, 1 गिरफ्तार, 4 आरोपी फरार

लखनऊ में वकील की सरेआम पीट-पीटकर हत्या, 1 गिरफ्तार, 4 आरोपी फरार

लखनऊ के कृष्णानगर में वकील की हत्या कर दी गई है.

लखनऊ के कृष्णानगर में वकील की हत्या कर दी गई है.

पुलिस हत्या (Murder) के पीछे पुरानी रंजिश को कारण मान रही है. वहीं अन्य आरोपियों की तलाश में कई जगह दबिश भी दी जा रही है.

    लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में एक अधिवक्ता की पीट-पीटकर हत्या (Murder) कर दी गई. मृतक वकील की पहचान 32 वर्षीय शिशिर त्रिपाठी के तौर पर हुई है. बताया जा रहा है कि मंलगवार देर रात 5 लोगों ने इस वारदात को अंजाम दिया. वारदात के पीछे पुरानी रंजिश कारण माना जा रहा है. हमलावरों ने शिशिर पर ईंट, पत्थर और डंडों से वार किया. देर रात दामोदरनगर इलाके में हुई इस वारदात के बाद पुलिस ने मामले में एक आरोपी अधिवक्ता विनायक ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं 4 आरोपी फरार बताए जा रहे हैं. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

    पहले से चल रही थी रंजिश
    पुलिस के अनुसार शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी विनायक ठाकुर और एक अन्य नामजद वकील मोनू तिवारी मृतक के साथ प्रॉपर्टी डीलिंग का काम भी करते थे. लेकिन कुछ समय पहले किसी बात को लेकर तीनों के बीच अनबन हो गई. शिशिर मंगलवार को अपनी मोटरसाइकिल से घर की तरफ लौट रहा था और इसी दौरान दामोदर नगर चौराहे पर विनायक के साथ अन्य चार लोगों ने उसे रोक लिया.

    कहासुनी के बाद किया अचानक वार
    जानकारी के अनुसार पहले तो शिशिर, विनायक और अन्य आरोपियों के बीच काफी देर तक बहस होती रही. अचानक इस दौरान पांचों ने शिशिर पर हमला बोल दिया. उन्होंने ईंट, पत्‍थर और डंडों से उसे बेरहमी से पीटा. बाद में शिशिर ने दम तोड़ दिया. वारदात के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. वहीं चार अन्य फरार हो गए.



    पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

    उधर शिशिर त्रिपाठी के साथी वकीलों का आरोप है गांजा कारोबारियों के विरोध पर उसकी हत्या की गई है. उन्होंने हत्यारोपियों को पुलिस संरक्षण का भी आरोप लगाया है. पोस्टमार्टम हाउस के बाहर वकीलों ने की पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. जिसके बाद पोस्टमार्टम हाउस के बाहर भारी संख्या में पुलिस, पीएसी और आरएफ तैनात की गई है. मामले में वकीलों ने शिशिर के परिवार को 50 लाख मुआवजा देने और कृष्णा नगर पुलिस को आरोपी बनाए जाने की मांग की है. परिजनों का आरोप है कि गांजा कारोबारियों के विरोध पर शिशिर की हत्या हुई थी. पुलिस को कई बार शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हुई. उन्होंने बताया कि मंगलवार रात 8 बजे भी इंस्पेक्टर कृष्णा नगर को शिशिर के दोस्तों ने फोन किया था. पुलिस की लापरवाही और गांजा कारोबारियों से मिलीभगत से शिशिर की हत्या की गई है.

    इनपुट: ऋषभ मणि त्रिपाठी

    ये भी पढ़ें: 

    कांग्रेस की महिला MP को भेजता था अश्लील मैसेज और वीडियो, पंजाब पुलिस ने पकड़ा

    फांसी की तारीख तय होने पर 'निर्भया' के गांव में खुशी, बाबा-चाचा ने बांटी मिठाई

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Lucknow news, Uttarpradesh news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर